क्या ड्रग तस्कर भारतीय एजेंसियों से गुजरात तट पर ड्रग्स उतारने से डरते हैं?

क्या ड्रग तस्कर भारतीय एजेंसियों से गुजरात तट पर ड्रग्स उतारने से डरते हैं?
क्या ड्रग तस्कर भारतीय एजेंसियों से गुजरात तट पर ड्रग्स उतारने से डरते हैं? गांधीनगर, 1 अगस्त (आईएएनएस)। कथित तौर पर गुजरात में चल रहे दो ड्रग तस्करों की एक ऑडियो क्लिप में एक तस्कर ने दावा किया है कि गुजरात तट पर ड्रग्स लाना असंभव है, उच्च समुद्र में चौकसी 400 समुद्री मील तक बढ़ गई है।

उप महानिरीक्षक (एटीएस), दीपन भद्रन ने पुष्टि की है कि एक भारतीय एजेंसी ने दो ड्रग तस्करों के बीच बातचीत को इंटरसेप्ट किया था।

ऑडियो क्लिप में कॉलर ने अपनी पहचान नहीं बताई। हालांकि, उसने हसीमभाई कहकर दूसरे व्यक्ति को संबोधित किया और हाल चाल पूछा। फिर उन्होंने कहा, मेरी दो घंटे तक नखुदा (पोत के कप्तान) के साथ बैठक हुई, उन्होंने ड्रग्स को उतारने से इनकार कर दिया, भारत की चौकसी अब 190 समुद्री मील तक सीमित नहीं है बल्कि 400 समुद्री तक पहुंच गई है। अगर ईरानी जहाज बाहर निकलता है तो मुझे नहीं लगता कि वे सुरक्षित रूप से माल को यहां उतार पाएंगे।

कॉलर ने आगे बताया कि, ईरानी कप्तान द्वारा यह संभव नहीं है, जामनगर और पोरबंदर मुश्किल से 180 से 200 समुद्री मील दूर हैं, बस अंदर घुसना असंभव है। ईरानी देश के जहाज जोखिम भरे हैं और एक ही रास्ता सुरक्षित है, लेकिन वे जोखिम उठाने को तैयार नहीं हैं।

पिछले दो वर्षो में भारतीय एजेंसियों ने भारत में तस्करी करते हुए 5,000 करोड़ रुपये मूल्य की 25,999 किलोग्राम ड्रग्स जब्त की हैं और 30 पाकिस्तानी, 17 ईरानी, 2 अफगान और 1 नाइजीरियाई को गिरफ्तार किया है।

--आईएएनएस

एचएमए/एएनएम

Share this story