चीन और अफ्रीका सच्चे दोस्त हैं

चीन और अफ्रीका सच्चे दोस्त हैं
चीन और अफ्रीका सच्चे दोस्त हैं बीजिंग, 10 जनवरी (आईएएनएस)। 4 से 7 जनवरी को चीनी स्टेट काउंसलर और विदेश मंत्री वांग यी ने इरिट्रिया, केन्या और कोरोमोस की यात्रा की। यह चीन की 32 साल की परंपरा है कि नये साल में विदेश मंत्री अपनी पहली विदेश यात्रा में जरूर अफ्रीका जाते हैं, जिससे चीन अफ्रीका मित्रता का मजबूत आधार जाहिर है।

एक महीने पहले चीन अफ्रीका सहयोग मंच की 8वीं मंत्री स्तरीय बैठक में राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने चीन अफ्रीका सहयोग बढ़ाने के लिए 9 अहम परियोजनाओं का प्रस्ताव रखा था। नये साल में वांग यी की यात्रा का मुख्य उद्देश्य 8वीं मंत्री स्तरीय बैठक में प्राप्त उपलब्धियों को लागू करना और कोरोना महामारी के साथ लड़ाई में अफ्रीकी देशों का समर्थन करना है।

एक महीने पहले चीन ने अफ्रीका को और एक अरब कोविड रोधी टीके प्रदान करने की घोषणा की, अब कुछ अफ्रीकी देश चीन से आये टीके प्राप्त करने लगे हैं । अपनी यात्रा में वांग यी ने केन्या को फिर 1 करोड़ टीके प्रदान करने की घोषणा की और कोरोमोस को इस साल में टीकाकरण पूरा करने का समर्थन व्यक्त किया।

व्यावहारिक आर्थिक सहयोग बढ़ाने में वांग यी की यात्रा के दौरान दोनों पक्षों ने सिलसिलेवार उपलब्धियां भी प्राप्त की हैं। जैसे चीन और केन्या ने डिजिटल अर्थव्यवस्था ,निवेश ,कृषि के बारे में सहयोगी दस्तावेजों पर हस्ताक्षर किये।

उल्लेखनीय बात है कि वांग यी की अफ्रीका यात्रा के दौरान चीन ने हॉर्न ऑफ अफ्रीका शांतिपूर्ण विकास का प्रस्ताव रखा ,जिसे संबंधित देशों का समर्थन मिला है। इसका मतलब है कि चीन अफ्रीका की शांति व सुरक्षा की रक्षा करने में अधिक बड़ी भूमिका निभाएगा।

(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)

--आईएएनएस

एएनएम

Share this story