चीन की सहायता वाली कोरोना वैक्सीन की नयी खेप कंबोडिया पहुंची

चीन की सहायता वाली कोरोना वैक्सीन की नयी खेप कंबोडिया पहुंची
चीन की सहायता वाली कोरोना वैक्सीन की नयी खेप कंबोडिया पहुंची बीजिंग, 18 नवंबर (आईएएनएस)। कंबोडिया सरकार ने 17 नवंबर को नोम पेन्ह अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे में भव्य स्वागत समारोह का आयोजन किया और चीन की सहायता वाली कोरोना वैक्सीन की 7वीं खेप का स्वागत किया। कंबोडिया के प्रधानमंत्री समदेच हुन सेन, उप प्रधानमंत्री व रक्षा मंत्री टी बान और कंबोडिया में स्थित चीनी राजदूत वांग वनथ्यान ने इस स्वागत समारोह में भाग लिया।

इस स्वागत समारोह में समदेच हुन सेन ने कहा कि चीन की सहायता वाली वैक्सीन और व्यावसायिक रूप से प्राप्त वैक्सीन से कंबोडिया में राष्ट्रीय टीकाकरण परियोजना के पहले चरण को समय से पहले पूरा किया गया है। परियोजना के मुताबिक पहले चरण में पूरे कंबोडिया में 6 साल से ऊपर के लोगों को टीके लगाए गए हैं। इस 1 नवंबर को यह परियोजना समाप्त हुई। वर्तमान में देश भर के विभिन्न क्षेत्रों को धीरे-धीरे फिर से खोला गया है। साथ ही कंबोडियाई आर्थिक स्थिति मजबूत हुई है।

उन्होंने कहा कि कंबोडिया की राष्ट्रीय टीकाकरण योजना का सफल कार्यान्वयन और चीन द्वारा दी गयी वैक्सीन के बीच संबंध निकट है। चीनी वैक्सीन कंबोडिया में सार्वजनिक स्वास्थ्य सुरक्षा बनाए रखने और लोगों के जीवन को बचाने की कुंजी बनी है। चीन कंबोडिया का सच्चा मित्र है। कंबोडिया के कठिन समय में चीन ने समय पर और बिना शर्त सहायता प्रदान करनी जारी रखी है।

राजदूत वांग वनथ्यान ने कहा कि चीन द्वारा दिए गए टीकों का अनुपात कंबोडिया में प्राप्त किये गये टीकों की कुल संख्या में 90 प्रतिशत से अधिक पहुंचा है। चीनी वैक्सीन सुरक्षित और प्रभावी है। कंबोडिया में महामारी से लड़ाई के दौरान चीनी वैक्सीन ने महत्वपूर्ण योगदान दिया। महामारी के प्रकोप से चीन व कंबोडिया की जनता ने एक दूसरे की मदद की। महामारी से लड़ने में चीनी जनता ने कंबोडियाई जनता का समर्थन जारी रखा है।

कंबोडिया के स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश भर 1.4 करोड से अधिक लोगों ने महामारी-रोधी वैक्सीन की कम से कम एक खुराक लगायी है, जो पूरी जनसंख्या में 88 प्रतिशत पहुंची है। इनमें से 1.32 करोड लोगों ने महामारी-रोधी वैक्सीन की दोनों खुराकें लगवा ली हैं।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

--आईएएनएस

एएनएम

Share this story