चीन दुनिया में विभिन्न समस्याओं का कारण नहीं, बल्कि समाधान है: छिंग कांग

चीन दुनिया में विभिन्न समस्याओं का कारण नहीं, बल्कि समाधान है: छिंग कांग
चीन दुनिया में विभिन्न समस्याओं का कारण नहीं, बल्कि समाधान है: छिंग कांग बीजिंग, 20 नवंबर (आईएएनएस)। अमेरिका स्थित चीनी राजदूत छिंग कांग ने 18 नवंबर को ब्रुकिंग्स संस्थान की परिषद के सदस्यों के साथ वीडियो आदान-प्रदान किया और भाषण भी दिया। उन्होंने अपने भाषण में कहा कि चीन दुनिया में विभिन्न समस्याओं का कारण नहीं, बल्कि समाधान है।

छिंग कांग ने कहा कि हाल के वर्षों में, अंतर्राष्ट्रीय समुदाय चीन के विकास के अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था पर प्रभाव को लेकर ज्यादा ध्यान दे रहा है। अमेरिका ने बार-बार कहा है कि उसकी चीन के प्रति नीतियों का उद्देश्य नियम पर आधारित अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था बनाए रखना और यातायात नियम सुनिश्चित करना है। लेकिन नियम क्या हैं? और इन्हें किसने बनाया? ट्रैफिक पुलिस कौन है? अमेरिका ने कभी यह स्पष्ट नहीं किया।

उन्होंने यह भी कहा कि 50 साल पहले संयुक्त राष्ट्र में चीन लोक गणराज्य की कानूनी सीट बहाल की गई थी। पिछली आधी सदी में, चीन नियमों का पालन करता है, प्रतिबद्धताओं का पालन करता है, कार्यान्वयन पर ध्यान देता है, और बहादुरी से जिम्मेदारी लेता है, और हमेशा विश्व शांति के निर्माता, वैश्विक विकास के योगदानकर्ता, अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था के रक्षक और सार्वजनिक उत्पाद के प्रदाता के रूप में काम करता है। तथ्यों ने साबित किया है कि चीन के संयुक्त राष्ट्र में शामिल होने के 50 सालों में चीन की आशा हमेशा अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की ओर से मान्यता और स्वीकार्यता हासिल करना, और अंतरराष्ट्रीय प्रणाली में एकीकृत होकर योगदान देना है।

छिंग कांग ने कहा कि चीन-अमेरिका संबंधों को अभूतपूर्व गंभीर कठिनाइयों का सामना करना पड़ा है। कुछ लोग मानते हैं कि वर्तमान अंतर्राष्ट्रीय प्रणाली में चीन और अमेरिका दो बेमेल ऑपरेटिंग सिस्टम हैं। इस बारे में, संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की सामान्य चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि चीन और अमेरिका को टकराव से बचना चाहिए, और दुनिया को अब और विभाजित नहीं किया जा सकता है। छिंग कांग ने आग्रह किया कि हमें इस संभावना का एक साथ विरोध करना चाहिए, और चीन, अमेरिका व दुनिया के बीच एक उज्‍जवल मार्ग को प्रशस्त करने के लिए दूरदर्शिता, ²ढ़ संकल्प और कार्रवाई दिखानी चाहिए। साथ ही मूल इरादे को न भूलें, जिम्मेदारी को ध्यान में रखें, सिद्धांतों का पालन करें और सहयोग पर ध्यान केंद्रित करें।

छिंग कांग ने विशेष रूप से इस बात पर जोर दिया कि एक चीन सिद्धांत न केवल चीन-अमेरिका संबंधों का राजनीतिक आधार है, बल्कि व्यापक रूप से स्वीकृत अंतरराष्ट्रीय संबंधों का मानदंड और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की सार्वभौमिक सहमति भी है। यह वर्तमान अंतर्राष्ट्रीय प्रणाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। संयुक्त राष्ट्र महासभा के नंबर 2758 प्रस्ताव को विकृत करने और अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्र में एक चीन सिद्धांत को चुनौती देने का कोई भी प्रयास थाइवान मुद्दे की वर्तमान स्थिति को बदलना और अंतर्राष्ट्रीय नियमों व अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था को नुकसान पहुंचाना ही है, जो जरूर असफल होगा।

( साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग )

--आईएएनएस

एएनएम

Share this story