टीवी अंपायरों को भविष्य में कमर की फुल टॉस गेंद को देखने की जरूरत : जयवर्धने

टीवी अंपायरों को भविष्य में कमर की फुल टॉस गेंद को देखने की जरूरत : जयवर्धने
टीवी अंपायरों को भविष्य में कमर की फुल टॉस गेंद को देखने की जरूरत : जयवर्धने मुंबई, 27 अप्रैल (आईएएनएस)। मुंबई इंडियंस के मुख्य कोच महेला जयवर्धने को लगता है कि पिछले शुक्रवार को वानखेड़े स्टेडियम में दिल्ली कैपिटल्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच मैच में नो-बॉल विवाद के बाद टीवी अंपायरों को भविष्य में कमर की फुल टॉस गेंद को देखने की जरूरत है।

जिस मैच में राजस्थान ने 15 रन से जीत दर्ज की, उस समय मैदानी अंपायरों द्वारा नो-बॉल नहीं दिए जाने पर बहुत बड़ा ड्रामा हुआ था, जब रोवमैन पॉवेल ने अंतिम ओवर की तीसरी गेंद पर ओबेद मैकॉय को छक्का लगाया था।

डगआउट में कप्तान ऋषभ पंत ने पॉवेल और कुलदीप यादव को मैदान से वापस बुलाने की कोशिश में दिल्ली खेमे में गुस्सा पैदा कर दिया, इसके बाद सहायक कोच प्रवीण आमरे फैसले के बारे में बात करने के लिए मैदानी अंपायरों की ओर गए थे। पंत और आमरे दोनों पर उनकी मैच फीस का 100 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया और बाद में एक मैच का प्रतिबंध भी लगाया गया।

खेल के नियमों में वर्तमान में टीवी अंपायर के लिए कमर की फुल टॉस गेंदों को जांच करने का कोई प्रावधान नहीं है और जयवर्धने को लगता है कि भविष्य में इस तरह की कॉल के लिए उन्हें ध्यान में लाया जाना चाहिए।

जयवर्धने से आईसीसी रिव्यू शो में पूछा, यह कुछ ऐसा है जो मुझे लगता है कि टीवी अंपायरों को देखने की जरूरत है। क्या तीसरे अंपायर के पास इन चीजों को देखने और मुख्य अंपायरों को सूचित करने का विकल्प है कि यह एक गेंद है जिसे चेक किया जाना चाहिए?।

जयवर्धने उस समय दिल्ली खेमे के व्यवहार से प्रभावित नहीं थे।

उन्होंने कहा, यह देखना निराशाजनक था कि आप एक मैच को रोकते हैं और लोग मैदान पर आते हैं, लेकिन मैं ईमानदारी से मानता हूं कि यह आखिरी ओवर में सिर्फ उच्च भावनाएं थी। एक-दो छक्के लगे और एक मौका था कि शायद अंपायर गलत थे। लेकिन नियम कहते हैं कि आप उन चीजों की जांच के लिए तीसरे अंपायर के पास नहीं जा सकते।

उन्होंने आगे टिप्पणी की कि जब एक कोच आमरे मैदान पर अंपायरों द्वारा किए गए निर्णय पर सवाल उठाने के लिए मैदान में प्रवेश करते हैं तो यह अच्छी बात नहीं है।

श्रीलंका के पूर्व कप्तान जयवर्धने ने खुलासा किया कि उन्होंने मुंबई टीम के साथ नो-बॉल ड्रामा पर चर्चा की और कहा कि पंत और आमरे अंतिम ओवर में अपने व्यवहार के लिए खुद ही दुखी होंगे।

--आईएएनएस

आरजे/एएनएम

Share this story