दक्षिण अमेरिकी देशों ने 2030 विश्व कप की बोली लगाई

दक्षिण अमेरिकी देशों ने 2030 विश्व कप की बोली लगाई
दक्षिण अमेरिकी देशों ने 2030 विश्व कप की बोली लगाई मोंटेवीडियो, 3 अगस्त (आईएएनएस)। 2030 फीफा विश्व कप की मेजबानी के लिए संयुक्त दक्षिण अमेरिकी राष्ट्रों ने बोली लगानी शुरू कर दी है। इस बारे में क्षेत्र के शीर्ष फुटबॉल अधिकारी ने मंगलवार को जानकारी दी।

अर्जेंटीना, उरुग्वे, पराग्वे और चिली ने उरुग्वे की राजधानी मोंटेवीडियो में एक समारोह में फुटबॉल के मेगा इवेंट की 2030 सीजन के लिए आधिकारिक तौर पर अपनी उम्मीदवारी शुरू की।

अधिकारी ने कहा, फीफा विश्व कप की मेजबानी करना महाद्वीप का एक सपना है। दक्षिण अमेरिकी फुटबॉल परिसंघ (सीओएमईबीओएल) के अध्यक्ष एलेजांद्रो डोमिंग्वेज ने एस्टाडियो सेंटेनारियो में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि हमने 1930 में पहले विश्व कप फाइनल का मंचन किया था।

उन्होंने आगे कहा, दक्षिण अमेरिका जानता है कि फुटबॉल की परंपरा को आगे बढ़ाना है। अधिक विश्व कप होंगे, लेकिन 100 साल की वर्षगांठ केवल एक बार होती है। यह प्रतिष्ठित स्थान है, जहां फुटबॉल विश्व कप का इतिहास शुरू हुआ।

शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण अमेरिकी बोली को स्पेन और पुर्तगाल के संयुक्त इबेरियन प्रस्ताव से प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ रहा है।

चिली ने 1962 में विश्व कप का मंचन किया था और पिछली बार यह प्रतियोगिता आठ साल पहले ब्राजील में दक्षिण अमेरिका में हुई थी।

अर्जेंटीना ने 1978 में इसकी मेजबानी की, जबकि उरुग्वे ने उद्घाटन संस्करण के बाद से इसका आयोजन नहीं किया है। पराग्वे पहली बार विश्व कप मैच आयोजित करने का लक्ष्य बना रहा है।

उरुग्वे फुटबॉल एसोसिएशन (एयूएफ) के अध्यक्ष इग्नासियो अलोंसो ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि दक्षिण अमेरिकी उम्मीदवारी सफल होगी।

--आईएएनएस

आरजे/एसकेपी

Share this story