दिल्ली में सिविल डिफेंस के कर्मचारी ने नाबालिग लड़की से किया दुष्कर्म

दिल्ली में सिविल डिफेंस के कर्मचारी ने नाबालिग लड़की से किया दुष्कर्म
दिल्ली में सिविल डिफेंस के कर्मचारी ने नाबालिग लड़की से किया दुष्कर्म नई दिल्ली, 21 नवंबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय राजधानी में एक नागरिक सुरक्षा कर्मचारी ने एक नाबालिग लड़की से कथित तौर पर दुष्कर्म किया है। एक अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी।

घटना की जानकारी देते हुए एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि 15 वर्षीय पीड़िता के माता-पिता की शिकायत पर 17 नवंबर को भारतीय दंड संहिता की धारा 363 (अपहरण) के तहत मामला दर्ज किया गया था।

जांच के दौरान पीड़िता उसी दिन अपने घर पहुंची और पूरी घटना बताई। उसने कहा कि जब वह मटियाला रोड के पास थी, एक लड़के ने उसे अपनी मोटरसाइकिल से उसके घर के पास छोड़ने की पेशकश की, लेकिन जैसे ही वह अपनी मोटरसाइकिल पर बैठी वह उसे एक कोचिंग सेंटर ले गया।

वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, आरोपी ने उसे अपने मोबाइल फोन पर कुछ तस्वीरें दिखाईं और अपनी वर्दी वाली तस्वीरें दिखाकर खुद को एक पुलिसकर्मी के रूप में पेश किया।

आरोपी ने उसे कोचिंग सेंटर में शिक्षिका की नौकरी दिलाने का भी आश्वासन दिया। इसके बाद वह उसे पार्क में ले गया और उसके साथ दुष्कर्म किया।

मामले की गंभीरता को देखते हुए दिल्ली के उत्तम नगर निवासी अभिषेक कुमार के रूप में पहचाने गए आरोपी को पकड़ने के लिए एक समर्पित टीम का गठन किया गया।

जांच शुरू में सीसीटीवी कैमरों के विश्लेषण पर केंद्रित रही और मटियाला, जैन कॉलोनी, राजापुरी में स्थापित 150 से अधिक सीसीटीवी कैमरों के फुटेज की जांच की गई और एक फुटेज में मोटरसाइकिल के साथ एक संदिग्ध व्यक्ति देखा गया था। गुप्त सूचना और सीसीटीवी कैमरे के फुटेज के विश्लेषण के आधार पर संदिग्ध व्यक्ति की पहचान की गई और बाद में उसे पकड़ लिया गया।

पिछले साल के आंकड़ों की तुलना में राष्ट्रीय राजधानी में महिलाओं के खिलाफ अपराध लगातार बढ़ रहे हैं। विशेष रूप से, राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) द्वारा एक महीने पहले जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में देश के सभी महानगरों में महिलाओं के खिलाफ अपराधों की संख्या सबसे अधिक दर्ज की गई।

दिल्ली पुलिस द्वारा संकलित आंकड़ों के अनुसार, शहर में चालू वर्ष में 31 अक्टूबर तक 1725 महिलाओं के साथ कथित रूप से बलात्कार किया गया है। 2020 में इसी अवधि तक 1,429 महिलाओं को जघन्य अपराध का सामना करना पड़ा। पिछले साल के आंकड़ों से तुलना करें तो इसमें 20 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। 2020 में, महिलाओं के खिलाफ अपराधों की कुल संख्या 7,948 थी, जो इस साल बढ़कर 11,527 हो गई है। कुल मिलाकर, राष्ट्रीय राजधानी में महिलाओं के खिलाफ अपराध में केवल (पिछले) 10 महीनों में 45 प्रतिशत की भारी वृद्धि हुई है।

--आईएएनएस

एचके/एसजीके

Share this story