नंदीग्राम हत्याकांड में सीबीआई ने 11 लोगों को किया गिरफ्तार

नंदीग्राम हत्याकांड में सीबीआई ने 11 लोगों को किया गिरफ्तार
नंदीग्राम हत्याकांड में सीबीआई ने 11 लोगों को किया गिरफ्तार कोलकाता, 9 अक्टूबर (आईएएनएस)। पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद हुई हिंसा की जांच कर रहे केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने कोलकाता हाईकोर्ट के निर्देश पर नंदीग्राम में ममता बनर्जी के चुनाव एजेंट एस.के सूफियान के दामाद एस.के. हबीबुल समेत 11 लोगों को गिरफ्तार किया है। नंदीग्राम में भाजपा कार्यकर्ता देवव्रत मैती की कथित तौर पर तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने हत्या कर दी थी।

यह पहली बार है, जब सीबीआई ने किसी विशेष मामले में इतने लोगों को गिरफ्तार किया है। शनिवार की सुबह सभी आरोपियों को नंदीग्राम से करीब 40 किलोमीटर दूर हल्दिया स्थित कलकत्ता पोर्ट ट्रस्ट गेस्ट हाउस में पेश होने को कहा गया।

आरोपियों में तृणमूल नेता सूफियान के दामाद शेख बैतुल इस्लाम, जो नंदीग्राम के अंचल नंबर 4 के मुखिया हैं, शेख शहाबुद्दीन केंदमारी जो अंचल नंबर 3 के पूर्व मुखिया हैं और शेख हबीबुर रहमान मोहम्मदपुर क्षेत्र संख्या 2 के मुखिया हैं। सीबीआई ने 9 और लोगों को भी गिरफ्तार किया है।

उल्लेखनीय है कि जांच एजेंसी ने हत्या के मामले में भी सूफियान से पूछताछ की थी, लेकिन सीबीआई ने शुक्रवार को हल्दिया अनुमंडल न्यायालय के अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष जो आरोपपत्र दाखिल किया, उसमें उसका नाम नहीं आया।

हालांकि सूफियान ने इसे पार्टी की नैतिक जीत बताया, लेकिन उनके दामाद की गिरफ्तारी ने निश्चित रूप से सत्ताधारी पार्टी को पीछे की सीट पर धकेल दिया।

एजेंसी ने शुक्रवार को अदालत के समक्ष पेश आरोपपत्र में कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेश के बाद 30 सितंबर को मैती की मौत पर मामला दर्ज किया था। चार्जशीट में एस.के. मिजानूर, एसके फतेनुर और एसके इमदादुल इस्लाम के नाम थे, जिन्हें नंदीग्राम पुलिस ने तृणमूल कांग्रेस समर्थकों द्वारा कथित रूप से किए गए घातक हमले की जांच के बाद गिरफ्तार किया था।

राज्य विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद नंदीग्राम के चिल्लाग्राम के भाजपा कार्यकर्ता देवव्रत मैती की हत्या कर दी गई। तृणमूल पर उनकी हत्या का आरोप लगाया गया था।

गिरफ्तारी के बाद हल्दिया में अस्थायी सीबीआई कैंप के पास गिरफ्तारी के बाद तनाव की स्थिति पैदा हो गई। तृणमूल के जिला अध्यक्ष देवप्रसाद मंडल को भी कथित तौर पर सीबीआई के अस्थायी शिविर में घुसने से रोका गया था, जिसके गेट के सामने स्थानीय जमीनी नेता और कार्यकर्ता जमा हो गए और नारेबाजी करने लगे।

बाद में हल्दिया थाने के पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे और सभी आरोपियों को हल्दिया अनुमंडल न्यायालय में पेश किया गया। अदालत परिसर में बड़ी संख्या में पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों को तैनात किया गया था।

--आईएएनएस

एसजीके

Share this story