नाटो ने अफगानिस्तान के नेतृत्व को पतन के लिए जिम्मेदार ठहराया

नाटो ने अफगानिस्तान के नेतृत्व को पतन के लिए जिम्मेदार ठहराया
नाटो ने अफगानिस्तान के नेतृत्व को पतन के लिए जिम्मेदार ठहराया नई दिल्ली, 13 सितम्बर (आईएएनएस)। नाटो महासचिव जेन्स स्टोलटेनबर्ग ने पूर्व सरकार के त्वरित पतन के लिए अफगानिस्तान के राजनीतिक और सैन्य नेतृत्व को जिम्मेदार ठहराया है।

टोलो न्यूज ने रविवार को बताया कि स्टोलटेनबर्ग ने कहा कि पूर्व सरकार के पतन के लिए अमेरिका और नाटो जिम्मेदार नहीं हैं।

उन्होंने कहा, अफगान सुरक्षा बलों के कुछ हिस्सों ने बहादुरी से लड़ाई लड़ी। लेकिन वे देश को सुरक्षित करने में असमर्थ रहे, क्योंकि अंतत:, अफगान राजनीतिक नेतृत्व तालिबान का सामना करने और उस शांतिपूर्ण समाधान को प्राप्त करने में विफल रहा जो अफगानी चाहते थे।

उन्होंने कहा, अफगान नेतृत्व की इस विफलता के कारण आज हम इस त्रासदी का सामना कर रहे हैं।

स्टोल्टेनबर्ग के अनुसार, यूएस-नाटो सैनिकों की वापसी पूर्व नियोजित थी, और यह अफगान राज्य के पतन का कारण नहीं था।

हम हमेशा के लिए अफगानिस्तान में रहने का इरादा नहीं रखते थे। पिछले कुछ वर्षों में, 100,000 से अधिक सैनिकों से हम 10,000 सैनिकों तक आ गए - और अब शून्य हो गए हैं।

उन्होंने कहा, लेकिन हमने पिछले कुछ हफ्तों में जो देखा है वह एक सैन्य और राजनीतिक पतन था, जिसकी उम्मीद नहीं थी।

तालिबान ने, हालांकि, पूर्व सरकार के पतन के लिए अमेरिका और नाटो को दोषी ठहराया और कहा कि वाशिंगटन और गठबंधन ने अपने लक्ष्यों तक पहुंचने के लिए अफगानिस्तान का इस्तेमाल किया।

तालिबान के एक अधिकारी अब्दुलहक इमाद ने कहा, जब अमेरिकी चले गए, तो प्रशासन अपने आप गिर गया। इसलिए, वे इस संकट के लिए जिम्मेदार हैं।

एक सैन्य विश्लेषक अजीज मारेज ने कहा कि अमेरिका और उसके सहयोगी पूर्व अफगान सरकार के नेताओं के सहयोग से सरकार के पतन में शामिल थे।

उन्होंने कहा, अमेरिका नियंत्रण में था। यह संयुक्त राज्य की एक योजना थी, और इसका प्रतिनिधि काबुल और कतर के बीच यात्रा कर रहा था। उनकी सेना यहां मौजूद थी। उन्होंने भ्रष्ट अधिकारियों को नियुक्त किया और उन्हें लोगों के उपर बिठाया।

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी रविवार को अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी को गैर जिम्मेदाराना बताया।

--आईएएनएस

आरएचए/आरजेएस

Share this story