पाकिस्तान में आए भूकंप में 20 की मौत, 300 से अधिक घायल

पाकिस्तान में आए भूकंप में 20 की मौत, 300 से अधिक घायल
पाकिस्तान में आए भूकंप में 20 की मौत, 300 से अधिक घायल इस्लामाबाद, 7 अक्टूबर (आईएएनएस)। प्रांतीय गृह मंत्री मीर जियाउल्लाह लांगोव ने कहा कि पाकिस्तान के बलूचिस्तान में गुरुवार सुबह रिक्टर पैमाने पर 5.9 तीव्रता के भूकंप के झटके आने से कम से कम 20 लोगों की मौत हो गई और 300 से अधिक लोग घायल हो गए।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, मंत्री मीर जियाउल्लाह लैंगोव ने मीडिया को बताया कि भूकंप से प्रभावित प्रांत के सभी जिलों में बचाव प्रयासों और स्वास्थ्य सेवाओं की सहायता के लिए आपातकाल की स्थिति घोषित कर दी गई है।

लैंगोव ने कहा कि गंभीर रूप से घायलों को प्रांतीय राजधानी क्वेटा सहित अन्य शहरों में स्थानांतरित करने के लिए प्रभावित क्षेत्रों में हेलीकॉप्टर भेजे जा रहे हैं।

पाकिस्तान के राष्ट्रीय भूकंपीय निगरानी केंद्र के अनुसार, 5.9-तीव्रता का भूकंप सुबह 3.01 बजे आया, जिसकी गहराई 15 किमी थी और केंद्र हरनाई जिले के पास था।

झटके क्वेटा, मस्तुंग, मुस्लिम बाग, किला सैफुल्ला, सिबी और पिशिन में भी महसूस किए गए।

बलूचिस्तान में प्रांतीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के महानिदेशक नसीर नासर ने कहा कि प्रांत के हरनाई जिले से हताहतों की सूचना मिली है जहां झटके आने के बाद घर गिर गए।

नसर ने कहा कि बचाव दल प्रभावित इलाकों में पहुंच गए हैं और बचाव कार्य शुरू कर दिया है, जिले के पहाड़ी इलाकों और बिजली आपूर्ति बंद होने के कारण बचाव कार्य में समस्या आ रही है।

स्थानीय मीडिया रिपोटरें के अनुसार, भूकंप प्रभावित इलाकों में भूस्खलन के कारण कई सड़कें अवरुद्ध हो गई हैं जिससे बचाव कार्य प्रभावित हुआ है।

नसर ने कहा कि प्रभावित इलाकों में बचाव कार्य के लिए भारी मशीनरी भेजी गई है, लेकिन घटनास्थल तक पहुंचने में कुछ समय लगेगा।

महानिदेशक ने कहा कि हरनाई जिले में कम से कम तीन गांव सबसे ज्यादा प्रभावित हुए जहां करीब 70 घर गिर गए है।

हरनाई शहर के उपायुक्त सोहेल अनवर हाशमी ने कहा कि शवों और घायलों को पास के अस्पतालों में स्थानांतरित किया जा रहा है। मृतकों और घायलों में अधिकांश महिलाएं और बच्चे है।

अधिकारी ने मीडिया को बताया कि मरने वालों की संख्या और बढ़ सकती है क्योंकि कम से कम 15 घायलों की हालत गंभीर है और कई लोग ढहे हुए घरों के मलबे के नीचे दबे हैं।

--आईएएनएस

एमएसबी/आरजेएस

Share this story