पॉवेल का खुलासा, पंत से नंबर 5 पर भेजने का किया था अनुरोध

पॉवेल का खुलासा, पंत से नंबर 5 पर भेजने का किया था अनुरोध
पॉवेल का खुलासा, पंत से नंबर 5 पर भेजने का किया था अनुरोध नई दिल्ली, 6 मई (आईएएनएस)। आईपीएल 2022 में सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ मैच जिताने वाली पारी खेलने के बाद दिल्ली कैपिटल्स के विस्फोटक बल्लेबाज रोवमैन पॉवेल ने खुलासा किया कि उन्होंने कप्तान ऋषभ पंत को स्पिनरों के खिलाफ बल्लेबाजी करने की उनकी क्षमता के बारे में समझाने की कोशिश की और उन्हें बल्लेबाजी क्रम में नंबर 5 भेजने का अनुरोध किया था।

28 वर्षीय पॉवेल ने इस आईपीएल सीजन में बल्लेबाजी की शुरुआत नंबर 6 से की थी, फिर बीच में नंबर 5 पर दो बार बल्लेबाजी की, फिर से नंबर 6 पर उन्हें भेज दिया गया था और यहां तक कि राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ नंबर 8 पर बल्लेबाजी की थी।

वास्तव में अक्षर पटेल और शार्दुल ठाकुर जैसे गेंदबाजो को उनके आगे भेजा गया था।

गुरुवार को हैदराबाद के खिलाफ मैच से पहले वेस्टइंडीज के खिलाड़ी ने आठ पारियों में 19.28 की औसत से सिर्फ 135 रन बनाए थे। चूंकि बल्लेबाज ने विभिन्न क्रमों पर बल्लेबाजी की थी और आईपीएल का शानदार सीजन नहीं चल रहा था, पंत उनके कमरे में गए और उनसे पूछा कि वह कहां बल्लेबाजी करना चाहते हैं, जिस पर पॉवेल ने जवाब दिया, बस मुझ पर भरोसा करो और मुझे पांच नंबर पर बल्लेबाजी करने दो।

नंबर 5 पर बल्लेबाजी करते हुए पॉवेल ने धुंआधार पारी खेली (35 गेंदों में नाबाद 67) और डेविड वार्नर (नाबाद 92) के साथ नाबाद 122 रन की साझेदारी की, जिससे दिल्ली कैपिटल्स ने आईपीएल 2022 के मैच में ब्रेबोर्न स्टेडियम में सनराइजर्स हैदराबाद को 21 रन से हरा दिया।

पॉवेल ने यह भी बताया कि इस आईपीएल की शुरुआत में उनके लिए चीजें थोड़ी कठिन थीं और उन्होंने अपने कप्तान से निचले क्रम में बल्लेबाजी करने की निराशा के बारे में बात की।

उन्होंने कहा, मैं आईपीएल में अच्छी फॉर्म में हूं, यह जानते हुए कि मैंने बहुत काम किया है। आईपीएल की शुरुआत में यह मेरे लिए थोड़ा कठिन था। मैं बस खुद पर विश्वास रखता हूं। मैंने ऋषभ के साथ बातचीत की, उन्हें समझाया कि मैं किस नंबर पर खेलना चाहता हूं, लेकिन नंबर 8 पर बल्लेबाजी करने जाना थोड़ा निराशाजनक था।

दूसरी ओर, 24 वर्षीय पंत ने कहा कि उन्हें अपने साथियों के साथ बातचीत करने में कोई आपत्ति नहीं है।

उन्होंने कहा, मुझे अपने साथियों के साथ बातचीत करने में कोई दिक्कत नहीं थी। शुरुआत में वह रन बनाने में संघर्ष कर रहे थे, लेकिन हमें पता था कि वह हमारे लिए क्या कर सकते हैं, इसलिए हमने उनका समर्थन किया।

--आईएएनएस

आरजे/एसकेपी

Share this story