पोंगल : तमिलनाडु ने लौटाया 100 टन खराब गुड़

पोंगल : तमिलनाडु ने लौटाया 100 टन खराब गुड़
पोंगल : तमिलनाडु ने लौटाया 100 टन खराब गुड़ चेन्नई, 15 जनवरी (आईएएनएस)। तमिलनाडु नागरिक आपूर्ति निगम (टीएनसीएससी) ने खराब गुणवत्ता वाले गुड़ के आपूर्तिकर्ताओं को 100 टन गुड़ लौटा दिया है। गुड़ की आपूर्ति पोंगल गिफ्ट हैम्पर्स के रूप में की जानी थी।

टीएनसीएससी के प्रबंध निदेशक एस. प्रभाकरन ने आईएएनएस को बताया, खराब गुड़ वापस भेजा जा रहा है। राज्य के कई जिलों में खराब हो चुके गुड़ को बदल दिया गया है और हमने विनिर्माताओं से कहा है कि खराब गुण को जिले में नई खेप से बदला जाए, जहां अभी तक गुड़ नहीं बदला गया है।

तमिलनाडु सरकार ने राज्य के 2.16 करोड़ राशन कार्डधारकों को पोंगल गिफ्ट हैम्पर्स प्रदान करने के लिए 1,297 करोड़ रुपये की मंजूरी दी है। सभी गिफ्ट हैंपर में 21 आइटम हैं।

टीएनसीएससी के प्रबंध निदेशक ने यह भी कहा कि आपूर्तिकर्ताओं के विभिन्न गोदामों में निरीक्षण किया जा रहा है और खराब गुणवत्ता वाली काली मिर्च जैसी चीजों को बदला जा रहा है।

तमिलनाडु के दुकानदारों और व्यापारियों ने कहा कि कुछ गुड़ चीनी के साथ मिलाया गया था जिसकी शेल्फ लाइफ बहुत कम है जिसके कारण खराब उत्पाद अंतिम उपयोगकर्ता तक पहुंच गया।

तमिलनाडु मर्चेंट एसोसिएशन के एक पदाधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर आईएएनएस से कहा, चावल राशन कार्ड का उपयोग करने वाले राज्य के लोगों के लिए 21 वस्तुओं के साथ गिफ्ट हैम्पर प्रदान करने की सरकार की अच्छी मंशा थी। उन्होंने कहा कि पोंगल गिफ्ट हैम्पर्स में सामान की आपूर्ति करने वालों के गोदामों की कड़ी जांच होनी चाहिए।

हालांकि, तमिलनाडु खाद्य सुरक्षा विभाग ने कहा कि जो गुड़ आपूर्ति की जा रही है वह खाने के लिए सुरक्षित है, भले ही गुड़ का आकार ठीक नहीं है।

तमिलनाडु फूड ग्रेन्स मैन्युफैक्च रिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष, एसपी जयपरकसम ने आईएएनएस को बताया, अगर हम व्यापारियों ने इस तरह के अर्ध-ठोस आकारहीन गुड़ बेचे होते तो खाद्य सुरक्षा विभाग हमें कार्रवाई में ले जाता। जिम्मेदार लोगों के खिलाफ भी इसी तरह की कार्रवाई की जानी चाहिए। गुड़ में अगर चीनी मिली है तो वह गुड़ कहलाने लायक नहीं है।

टीएनसीएससी के प्रबंध निदेशक ने कहा कि पोंगल गिफ्ट हैम्पर्स का अंतिम बैच गुरुवार को वितरित किया गया था और सभी कार्डधारकों को एक दो दिनों में पोंगल गिफ्ट हैम्पर्स प्राप्त हो जाएंगे।

--आईएएनएस

एसएस/एसकेके

Share this story