भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई पर जोर दें: शी चिनफिंग

भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई पर जोर दें: शी चिनफिंग
भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई पर जोर दें: शी चिनफिंग बीजिंग, 20 जून (आईएएनएस)। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीसी) की केंद्रीय कमेटी के पोलित ब्यूरो ने 17 जून को भ्रष्टाचार के विरोध पर 40वां सामूहिक अध्ययन किया। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय समिति के महासचिव शी चिनफिंग ने अध्ययन की अध्यक्षता करते हुए इस बात पर जोर दिया कि भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई सबसे बड़ी राजनीति यानी जनता के दिलों से संबंधित है। यह एक प्रमुख राजनीतिक संघर्ष है जिसे नहीं खोना चाहिए। नई स्थिति में पार्टी के आचरण और स्वच्छ सरकार के निर्माण और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई के प्रति समझ को गहरा करना आवश्यक है। भ्रष्ट होने की हिम्मत न होने, भ्रष्टाचार न करने और भ्रष्टाचार न चाहने को एकीकृत रूप से बढ़ावा देने की जरूरत है, ताकि व्यापक रूप से भ्रष्टाचार के खिलाफ कठिन और लंबी लड़ाई जीती जा सके।

शी चिनफिंग ने महत्वपूर्ण भाषण देते हुए कहा कि आत्म-क्रांति का साहस सीपीसी का विशिष्ट चरित्र है। विभिन्न ऐतिहासिक अवधियों में, सीपीसी अपनी पार्टी के प्रबंधन और शासन करने में बहुत सख्त है। नए युग में प्रवेश करते हुए हमने भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई को आगे बढ़ाने के लिए सिलसिलेवार नई अवधारणाओं, नए विचारों और नई रणनीतियों को सामने रखा, पार्टी के सख्त शासन को रणनीतिक लेआउट में शामिल किया और आत्म-क्रांति पर निर्भर रहते हुए ऐतिहासिक चक्र से बचने के प्रभावी तरीके को पाया। पार्टी ने अभूतपूर्व भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई के माध्यम से जनता के साथ हाड़-मांस संबंध बनाए रखने में जीत हासिल की, और साथ ही पूरी पार्टी की उच्च एकता जीती।

शी चिनफिंग ने बताया कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की 18वीं राष्ट्रीय कांग्रेस के बाद से हमने भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में उल्लेखनीय परिणाम और महत्वपूर्ण अनुभव हासिल किये हैं। भ्रष्टाचार का विरोध पार्टी की उन्नत प्रकृति को कमजोर करने और पार्टी की शुद्धता को नुकसान पहुंचाने वाले विभिन्न रोगकीटों के खिलाफ लड़ाई ही है। हमें भ्रष्टाचार के हठ और हानिकारकता को कम नहीं आंकना चाहिए और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई को अंत तक जारी रखना चाहिए।

शी चिनफिंग ने बताया कि पार्टी और राज्य की पर्यवेक्षण प्रणाली के सुधार को गहरा करना, आंतरिक-पार्टी पर्यवेक्षण को प्रमुख भूमिका के रूप में लेना, विभिन्न पर्यवेक्षण बलों के एकीकरण को बढ़ावा देना और सतत पर्यवेक्षण के पूर्ण कवरेज और प्रभावशीलता को मजबूत करना चाहिए, ताकि शक्ति का दुरुपयोग न हो। और साथ ही आंतरिक पार्टी कानूनी प्रणाली और राष्ट्रीय कानूनी प्रणाली का सुधार करना और विदेशी मामलों से संबंधित भ्रष्टाचार विरोधी कानूनों और विनियमों के सुधार को तेज करना आवश्यक है।

(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)

--आईएएनएस

एएनएम

Share this story