राष्ट्रमंडल खेलों से हटने के हाकी इंडिया के फैसले की खेल मंत्री ने की आलोचना

राष्ट्रमंडल खेलों से हटने के हाकी इंडिया के फैसले की खेल मंत्री ने की आलोचना
राष्ट्रमंडल खेलों से हटने के हाकी इंडिया के फैसले की खेल मंत्री ने की आलोचना नई दिल्ली, 10 अक्टूबर (आईएएनएस)। केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने अगले साल इंग्लैंड के बमिर्ंघम में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों से हटने के हाकी इंडिया के फैसले की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि यह फैसला महासंघ अकेले नहीं ले सकता है।

रविवार को पत्रकारों से बात करते हुए केंद्रीय खेल मंत्री ठाकुर ने कहा कि इस तरह के बड़े फैसले की घोषणा करने से पहले सरकार से सलाह लेनी चाहिए थी।

ठाकुर ने कहा, मुझे लगता है कि किसी भी महासंघ को इस तरह के बयान देने से बचना चाहिए। उन्हें पहले सरकार के साथ इस पर चर्चा करनी चाहिए। यह महासंघ की टीम नहीं जा रही है। यह देश की टीम है जो एक कार्यक्रम के लिए जाती है। मेरा मानना है कि हॉकी इंडिया को सरकार और खेल विभाग से परामर्श करना चाहिए।

हॉकी इंडिया ने हाल ही में कोविड -19 चिंताओं और देश के यात्रियों के लिए यूके के भेदभावपूर्ण क्वारंटीन नियमों का हवाला देते हुए, अगले साल के बमिर्ंघम राष्ट्रमंडल खेलों से अपनी पुरुष और महिला टीमों को वापस लेने की पुष्टि की।

भारतीय ओलंपिक संघ (आईएओ) के प्रमुख नरिंदर बत्रा को लिखे पत्र में, एच आई के अध्यक्ष ज्ञानेंद्रो निंगोमबम ने भेदभावपूर्ण प्रतिबंधों का हवाला दिया जो भारत के खिलाफ पक्षपाती हैं, यह खेल इवेंट को रद्द करने के कारणों में से एक हैं।

एसआई ने यह भी तर्क दिया कि बमिर्ंघम गेम्स (जुलाई 28 से अगस्त 8 तक) और हांग्जो में (10 सितम्बर से 25 सितम्बर तक) खेला जाने वाला एशियाई खेलों के बीच केवल 32 दिनों का अंतराल है। एशियाई खेल 2024 में होने वाले पेरिस ओलंपिक के लिए एक सीधा क्वालीफायर है।

--आईएएनएस

आरएसके/आरजेएस

Share this story