राष्ट्रमंडल खेल : जेरेमी लालरिनुंगा ने भारत को दिलाया दूसरा गोल्ड (लीड-1)

राष्ट्रमंडल खेल : जेरेमी लालरिनुंगा ने भारत को दिलाया दूसरा गोल्ड  (लीड-1)
राष्ट्रमंडल खेल : जेरेमी लालरिनुंगा ने भारत को दिलाया दूसरा गोल्ड  (लीड-1) बर्मिघम, 31 जुलाई (आईएएनएस)। युवा भारतीय भारोत्तोलक जेरेमी लालरिनुंगा ने रविवार को 2022 राष्ट्रमंडल गेम्स में पुरुषों के 67 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीतकर एक नया रिकॉर्ड कामय किया।

मिजोरम के आइजोल के रहने वाले 19 वर्षीय भारोत्तोलक ने कुल 300 किग्रा (स्नैच में 140 किग्रा और क्लीन एंड जर्क में 160 किग्रा) का भार उठाया और मीराबाई चानू द्वारा शनिवार को 49 किग्रा वर्ग महिलाओं में स्वर्ण पदक जीतने के बाद भारोत्तोलन में भारत का दूसरा स्वर्ण पदक जीता।

समोआ के वैपावा नेवो इयोने ने 293 किग्रा (127 किग्रा और 166 किग्रा) के साथ रजत पदक जीता, जबकि नाइजीरिया के एडिडियॉन्ग जोसेफ उमोफिया ने 290 किग्रा (130 किग्रा और 160 किग्रा) की कुल लिफ्ट के साथ कांस्य पदक अपने नाम किया, जिससे जेरेमी द्वारा स्नैच में बनाया गया 10 किग्रा अंतर निर्णायक साबित हुआ।

राष्ट्रीय प्रदर्शनी केंद्र में जेरेमी ने प्रतियोगिता के स्नैच चरण में अपने पहले प्रयास में 136 किग्रा भार उठाकर शुरूआत की और तुरंत बढ़त बना ली।

बाद में उन्होंने 140 किग्रा लिफ्ट के साथ सुधार किया और 143 किग्रा उठाने के तीसरे प्रयास में असफल होने के बावजूद जेरेमी स्नैच चरण के अंत में 10 किग्रा की बढ़त के साथ प्रतियोगिता में शीर्ष पर बने रहे।

क्लीन एंड जर्क राउंड में, जेरेमी ने 154 किग्रा की सफल लिफ्ट के साथ शुरूआत की, लेकिन इस प्रक्रिया में, वह घायल हो गए। वह दूसरे प्रयास में सफलतापूर्वक 160 किग्रा उठाने के लिए वापस आए और अपने कुल योग भार को 300 किग्रा तक ले गए।

लालरिनुंगा ने अपना स्वर्ण पदक जीतने के बाद कहा, मैंने सुबह-सुबह अपने शरीर में खिंचाव महसूस की थी। हमने फिजियो की सेवाओं का इस्तेमाल किया था और हालांकि इसने प्रभाव को कम कर दिया था, फिर भी यह असहज था।

हालांकि, चीजें उनके लिए थोड़ी आरामदायक हो गई थी। लालरिनुंगा ने पहले प्रयास में 154 से शुरूआत की और मैच में दूसरे प्रयास में 160 किलोग्राम उठाया, जिसके बाद वह घायल हो गए। कोच विजय शर्मा दौड़कर पोडियम पर पहुंचे और उन्हें बैकस्टेज वापस ले गए। भारोत्तोलन स्थल पर सुबह से ही उनकी मांसपेशियों की देखभाल कर रहे फिजियो ने खिंचाव का इलाज करने की कोशिश की।

इसके बाद, भारोत्तोलक ने सफलतापूर्वक 166 का भार उठाया, इस प्रकार कुल 293 के साथ नाइजीरिया को पछाड़ दिया। लालरिनुंगा ने अपने तीसरे प्रयास में 165 उठाने का प्रयास किया, लेकिन असफल रहे, इस प्रकार सोमोआ के इओने के लिए अपने आखिरी प्रयास में 174 किलोग्राम उठाने में नाकाम रहे। इससे लालरिनुंगा ने उन्हें पीछे छोड़ते हुए और स्वर्ण पदक जीता, जिसके बाद कोचों ने राहत की सांस ली।

लालरिनुंगा ने कहा, मेरे कोच विजय शर्मा ने मेरी मदद की और उन्होंने पूरे कार्यक्रम में मेरा मार्गदर्शन किया। उन्होंने मुझे ध्यान से वजन उठाने के लिए कहा। मैं उनका बहुत आभारी हूं।

वास्तव में यह एक शानदार प्रदर्शन था। जेरेमी लालरिनुंगा और उनके कोच विजय शर्मा दोनों ही भारत को दूसरा स्वर्ण पदक जिताने में सफल रहे।

--आईएएनएस

आरजे/एसकेपी

Share this story