वाईएसआरसीपी सांसद के कथित नग्न वीडियो कॉल की जांच के आदेश

वाईएसआरसीपी सांसद के कथित नग्न वीडियो कॉल की जांच के आदेश
वाईएसआरसीपी सांसद के कथित नग्न वीडियो कॉल की जांच के आदेश अमरावती, 4 अगस्त (आईएएनएस)। आंध्र प्रदेश सरकार ने गुरुवार को वाईएसआरसीपी सांसद गोरंतला माधव का एक कथित नग्न वीडियो कॉल वायरल होने के बाद जांच के आदेश दिए।

हालांकि, सांसद ने दावा किया कि यह उन्हें बदनाम करने के लिए एक मॉफ्र्ड वीडियो था।

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर प्रसारित वीडियो में, हिंदूपुर निर्वाचन क्षेत्र के लोकसभा सदस्य ने कथित तौर पर एक महिला के साथ बातचीत की और कथित तौर पर अपने कपड़े भी उतार दिए।

वाईएसआर कांग्रेस पार्टी (वाईएसआरसीपी) के सांसद ने आरोप लगाया कि वीडियो उन्हें बदनाम करने की साजिश का हिस्सा थे।

उन्होंने नई दिल्ली में संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। माधव ने दावा किया कि जिम से उनके वीडियो को उन लोगों ने मॉर्फ किया है जो उनकी छवि खराब करना चाहते हैं।

इस बीच, मुख्यमंत्री वाई.एस. जगन मोहन रेड्डी ने कथित तौर पर घटना को गंभीरता से लिया है।

वाईएसआरसीपी महासचिव और सरकारी सलाहकार सज्जला रामकृष्ण रेड्डी ने कहा कि सरकार ने जांच के आदेश दिए हैं।

उन्होंने कहा, माधव ने अपने खिलाफ लगे आरोपों से इनकार किया है। उन्होंने पुलिस से शिकायत की है कि यह एक मॉफ्र्ड वीडियो है। पुलिस जांच कर रही है। अगर यह सामने आता है कि यह एक मॉफ्र्ड वीडियो नहीं है, तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

रामकृष्ण रेड्डी ने स्पष्ट किया कि पार्टी इस तरह की गतिविधियों को बर्दाश्त नहीं करेगी।

इस बीच विपक्षी तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) ने कहा है कि वाईएसआरसीपी के कुछ नेताओं का व्यवहार बेहद बेशर्म है।

पूर्व विधायक और तेदेपा के वरिष्ठ नेता बोंडा उमामहेश्वर राव ने कहा कि वाईएसआरसीपी के कुछ नेताओं का व्यवहार बहुत नीच है और हिंदूपुर लोकसभा सदस्य गोरंटला माधव का वीडियो जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, उनकी पार्टी के नेताओं के निंदनीय आचरण के बारे में बताता है।

उमामहेश्वर राव ने यहां मीडियाकर्मियों से कहा कि वाईएसआरसीपी के सांसदों, मंत्रियों, पूर्व मंत्रियों, विधायकों और पार्टी के अन्य नेताओं का व्यवहार बहुत ही घृणित है।

चुनावी हलफनामे के अनुसार, गोरंटला माधव के खिलाफ धारा 376, धारा 302 और धारा 506 के तहत मामले लंबित हैं, बोंडा उमा ने आरोप लगाया कि यह मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी हैं, जो उनकी पार्टी के सांसदों के इस तरह के खराब व्यवहार के लिए जिम्मेदार हैं।

टीडीपी नेता ने टिप्पणी की, अतीत में भी, हम सभी ने देखा है कि कैसे वीडियो में मंत्री अंबाती रामबाबू ने एक महिला के खिलाफ कुछ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। जगन मोहन रेड्डी ने उन्हें बेशर्मी से अपने मंत्रिमंडल में शामिल किया।

--आईएएनएस

आरएचए/एएनएम

Share this story