विलुप्त होने के कगार पर ऑस्ट्रेलियाई कोआला: संरक्षणवादी

विलुप्त होने के कगार पर ऑस्ट्रेलियाई कोआला: संरक्षणवादी
विलुप्त होने के कगार पर ऑस्ट्रेलियाई कोआला: संरक्षणवादी कैनबरा, 14 सितम्बर (आईएएनएस)। ऑस्ट्रेलिया के सबसे बड़े कोआला संरक्षण संगठन ने मंगलवार को चेतावनी दी कि प्रतिष्ठित मार्सुपियल विलुप्त होने की कगार पर है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, ऑस्ट्रेलियन कोआला फाउंडेशन (एकेएफ) ने संघीय सरकार पर कोआला की आबादी को बहुत अधिक आंकने का आरोप लगाते हुए कहा कि जंगल में 50,000 से भी कम लोग रह सकते हैं।

एकेएफ के मुख्य कार्यकारी डेबोरा ताबार्ट ने ऑस्ट्रेलियन ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन (एबीसी) को बताया, हम मानते हैं कि संघीय सरकार ने कोआला की संख्या को वास्तविक संख्या से लगभग 10 गुना अधिक आंका है।

हम मानते हैं कि जंगल में 80,000 से कम जानवर बचे हैं - यह शायद 50,000 से अधिक है।

2016 में क्वींसलैंड विश्वविद्यालय (यूक्यू) के शोधकर्ताओं ने अनुमान लगाया कि जंगल में 330, 000 कोआला थे।

हालांकि, देशभर में आबादी तब से निवास स्थान के नुकसान और झाड़ियों से नष्ट हो गई है।

डब्ल्यूडब्ल्यूएफ के अनुसार, 2019-20 ब्लैक समर झाड़ियों में अकेले 60,000 कोआला मारे गए।

यूक्यू स्कूल ऑफ एग्रीकल्चर एंड फूड साइंसेज के एक शोधकर्ता बिल एलिस 1990 के दशक से कोआला आबादी का अध्ययन कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि फर व्यापार द्वारा लगभग मिटाए जाने के बाद मार्सुपियल इतिहास में दूसरी बार विलुप्त होने का सामना कर रहे हैं।

एलिस ने एबीसी को बताया, यह सिर्फ झाड़ियों की आग नहीं है, सूखा और आवास समाशोधन भी है।

एक सौ साल पहले, फर व्यापार ने प्रजातियों का लगभग सफाया कर दिया था। अगर फर व्यापार जारी रहता, तो कोआला गायब हो जाते, क्योंकि हम जानते हैं कि कुछ क्षेत्रों में जहां उनका सफाया हो गया था, वे कभी वापस नहीं आए।

--आईएएनएस

एसएस/आरजेएस

Share this story