विश्व 2020 मानसिक स्वास्थ्य लक्ष्य हासिल करने में हुआ विफल: डब्ल्यूएचओ

विश्व 2020 मानसिक स्वास्थ्य लक्ष्य हासिल करने में हुआ विफल: डब्ल्यूएचओ
विश्व 2020 मानसिक स्वास्थ्य लक्ष्य हासिल करने में हुआ विफल: डब्ल्यूएचओ नई दिल्ली, 8 अक्टूबर (आईएएनएस)। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, ऐसे समय में जब कोविड-19 महामारी मानसिक स्वास्थ्य सहायता की बढ़ती आवश्यकता को उजागर कर रही है, दुनिया 2020 के अधिकांश मानसिक स्वास्थ्य लक्ष्यों से चूक गई है, और लोगों को उनकी जरूरत की मानसिक स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने में विफल रही है। डब्ल्यूएचओ की ये रिपोर्ट शुक्रवार को जारी की गई।

10 अक्टूबर को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस से पहले जारी मानसिक स्वास्थ्य एटलस रिपोर्ट में 171 देशों के डेटा शामिल हैं। इससे पता चलता है कि हाल के वर्षों में मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देने के बावजूद, अभी तक गुणवत्तापूर्ण मानसिक सेवाओं के पैमाने में वृद्धि नहीं हुई है जो जरूरतों के अनुरूप है।

2020 में, डब्ल्यूएचओ के 194 सदस्य राज्यों में से केवल 51 प्रतिशत ने बताया कि उनकी मानसिक स्वास्थ्य नीति या योजना अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय मानवाधिकार उपकरणों के अनुरूप थी, जो लक्ष्य 80 प्रतिशत से कम है।

केवल 52 प्रतिशत देशों ने मानसिक स्वास्थ्य संवर्धन और रोकथाम कार्यक्रमों से संबंधित लक्ष्य को पूरा किया, फिर भी 80 प्रतिशत लक्ष्य से काफी नीचे है।

हर तीन साल में जारी कि गई रिपोर्ट में कहा गया है कि आत्महत्या की दर में 10 प्रतिशत की कमी ही एकमात्र लक्ष्य था, लेकिन फिर भी, केवल 35 देशों के पास एक स्टैंड-अलोन रोकथाम रणनीति, नीति और योजना थी।

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ ट्रेडोस अदनोम घेब्येयियस ने कहा कि यह बेहद चिंताजनक है कि मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं की स्पष्ट और बढ़ती आवश्यकता के बावजूद, अच्छे इरादों को निवेश से पूरा नहीं किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि हमें इस वेक-अप कॉल पर ध्यान देना चाहिए और मानसिक स्वास्थ्य में निवेश के पैमाने में नाटकीय रूप से तेजी लानी चाहिए, क्योंकि मानसिक स्वास्थ्य के बिना कोई स्वास्थ्य नहीं रहेगा।

दूसरी ओर, मानसिक स्वास्थ्य नीतियों, योजनाओं और कानूनों को अपनाने में लगातार प्रगति देखी गई।

हालांकि, मानसिक स्वास्थ्य पर खर्च किए गए सरकारी स्वास्थ्य बजट का प्रतिशत अभी भी लगभग 2 प्रतिशत है। और केवल 25 प्रतिशत देश प्राथमिक देखभाल में मानसिक स्वास्थ्य के एकीकरण के सभी मानदंडों को पूरा करते हैं।

लेकिन, 2020 में लगभग 80 प्रतिशत देशों ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा या प्रतिपूर्ति योजनाओं में कई मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों को शामिल किया है।

इसके अलावा, प्रति 100,000 जनसंख्या पर मानसिक स्वास्थ्य कार्यकतार्ओं की वैश्विक औसत संख्या में थोड़ी वृद्धि हुई, 2014 में नौ श्रमिकों से 2020 में प्रति 100, 000 जनसंख्या पर 13 श्रमिकों तक, कम आय वाले देशों की तुलना में उच्च आय वाले देशों में यह संख्या 40 गुना अधिक थी।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 2013 में, डब्ल्यूएचओ ने 2020 के लिए एक व्यापक मानसिक स्वास्थ्य कार्य योजना और लक्ष्यों का समर्थन किया, जिसे अब 2030 तक बढ़ा दिया गया है।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इसमें आपातकालीन तैयारी योजनाओं में मानसिक स्वास्थ्य और मनोसामाजिक समर्थन को शामिल करने, प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल में मानसिक स्वास्थ्य का एकीकरण और मानसिक स्वास्थ्य पर शोध के नए लक्ष्य शामिल हैं।

--आईएएनएस

एमएसबी/आरजेएस

Share this story