वैश्विक अर्थव्यवस्था की संतुलित वसूली में तीन प्रमुख जोखिम- आईएमएफ अध्यक्ष

वैश्विक अर्थव्यवस्था की संतुलित वसूली में तीन प्रमुख जोखिम- आईएमएफ अध्यक्ष
वैश्विक अर्थव्यवस्था की संतुलित वसूली में तीन प्रमुख जोखिम- आईएमएफ अध्यक्ष बीजिंग, 6 अक्टूबर (आईएएनएस)। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की अध्यक्ष क्रिस्टालिना जॉजीर्वा ने 5 अक्तूबर को कहा कि वैश्विक आर्थिक सुधार अभी भी कठिनाइयों से जूझ रहा है, जो आर्थिक विकास भेदभाव, बढ़ती मुद्रास्फीति और उच्च सार्वजनिक ऋण के तीन प्रमुख जोखिमों का सामना कर रहा है। आईएमएफ के जुलाई के पूवार्नुमान के अनुसार, 2021 में वैश्विक अर्थव्यवस्था 6 प्रतिशत की दर से बढ़ेगी, लेकिन इन तीन प्रमुख जोखिमों को देखते हुए, इस वर्ष वैश्विक अर्थव्यवस्था की विकास दर थोड़ी कम होगी।

जॉजीर्वा ने कहा कि चीन और अमेरिका अभी भी वैश्विक आर्थिक विकास के लिए महत्वपूर्ण इंजन हैं, और कुछ विकसित और उभरती अर्थव्यवस्थाएं भी बढ़ रही हैं। लेकिन उन क्षेत्रों में जहां टीके की कमी और नीति प्रतिक्रिया क्षमताएं सीमित हैं, आर्थिक विकास की स्थिति लगातार बिगड़ रही है। उन्होंने कहा कि 2022 में उन्नत अर्थव्यवस्थाओं के आर्थिक उत्पादन के पूर्व-महामारी के स्तर पर लौटने की उम्मीद है, लेकिन अधिकांश उभरती और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं को ठीक होने में अधिक समय लगेगा।

जॉजीर्वा का मानना है कि कई अर्थव्यवस्थाओं में मुद्रास्फीति की दर तेजी से बढ़ी है, और वैश्विक खाद्य और ऊर्जा की कीमतें बढ़ी हैं, जिसने गरीब परिवारों के जीवन दबाव को और बढ़ा दिया है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि 2022 में अधिकांश अर्थव्यवस्थाओं का मूल्य दबाव कम होने की उम्मीद है, लेकिन वैश्विक मुद्रास्फीति के ²ष्टिकोण से अब भी बड़ी अनिश्चितता मौजूद है।

इसके साथ ही सकल घरेलू उत्पाद में वैश्विक सार्वजनिक ऋण का अनुपात 100 फीसदी के करीब है। महामारी की वजह से कमजोर वित्तीय संसाधनों वाली कई अर्थव्यवस्थाओं ने अपने बजट के स्थान को और कम कर दिया है, और वर्तमान स्थिति बहुत मुश्किल है।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

--आईएएनएस

एएनएम

Share this story