संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने साइप्रस में संयुक्त राष्ट्र शांति सेना के जनादेश का विस्तार किया

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने साइप्रस में संयुक्त राष्ट्र शांति सेना के जनादेश का विस्तार किया
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने साइप्रस में संयुक्त राष्ट्र शांति सेना के जनादेश का विस्तार किया यूनाइटेड नेशन, 29 जुलाई (आईएएनएस)। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने साइप्रस में संयुक्त राष्ट्र शांति सेना (यूएनएफआईसीवाईपी) के जनादेश को 31 जनवरी, 2023 तक बढ़ाने के लिए सर्वसम्मति से संकल्प 2646 को अपनाया है।

शिन्हुआ न्यूज एजेंसी के अनुसार, परिषद ने इस बात पर भी जोर दिया कि यूएनएफआईसीवाईपी का अधिकार पूरे साइप्रस में फैला हुआ है और इसके आंदोलन की स्वतंत्रता पर प्रतिबंध शांति अभियानों में सेवारत संयुक्त राष्ट्र कर्मियों की सुरक्षा और सुरक्षा के लिए गंभीर जोखिम पेश कर सकता है।

पक्षों और संबंधित शामिल पार्टियों के बीच प्रत्यक्ष सैन्य संपर्को के लिए एक प्रभावी तंत्र पर प्रगति की कमी पर खेद व्यक्त करते हुए, परिषद ने इस तरह के तंत्र की स्थापना पर एक स्वीकार्य प्रस्ताव को विकसित करने और लागू करने के लिए यूएनएफआईसीवाईपी से आग्रह किया।

1963 में, साइप्रस में संवैधानिक संकट के परिणामस्वरूप अंतरसांप्रदायिक हिंसा का प्रकोप हुआ। शांति बहाल करने के सभी प्रयास विफल होने के बाद, सुरक्षा परिषद ने एक प्रस्ताव अपनाया, जिसने यूएनएफआईसीवाईपी की स्थापना की सिफारिश की और यह सबसे लंबे समय तक चलने वाले संयुक्त राष्ट्र शांति मिशनों में से एक बन गया है।

ग्रीस के साथ संघ के पक्ष में तत्वों द्वारा तख्तापलट और तुर्की द्वारा सैन्य हस्तक्षेप के बाद, मिशन की जिम्मेदारियों का विस्तार 1974 में हुआ, जहां सैनिकों ने द्वीप के उत्तरी भाग पर नियंत्रण पाया।

--आईएएनएस

एचएमए/एसकेके

Share this story