सभी के लिए आवश्यक नहीं कोविड बूस्टर खुराक : एस्ट्राजेनेका प्रमुख

सभी के लिए आवश्यक नहीं कोविड बूस्टर खुराक : एस्ट्राजेनेका प्रमुख
सभी के लिए आवश्यक नहीं कोविड बूस्टर खुराक : एस्ट्राजेनेका प्रमुख लंदन, 9 सितम्बर (आईएएनएस)। कोविड-19 के खिलाफ टीकों की तीसरी खुराक की ब्रिटेन में हर किसी को जरूरत नहीं हो सकती है और देश भर में इसे शुरू करने से देश की पहले से ही बोझिल राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) पर अतिरिक्त दबाव पड़ सकता है। एस्ट्राजेनेका के सीईओ पास्कल सोरियट ने यह बात कही है।

द टेलीग्राफ की रिपोर्ट के अनुसार, सोरियट की टिप्पणी तब सामने आई है, जब ब्रिटेन अपने सभी नागरिकों के लिए आधिकारिक तौर पर बूस्टर खुराक की घोषणा करने से कुछ ही सप्ताह दूर है।

सोरियट ने समाचार पत्र में लिखा है कि पूरी वयस्क आबादी को बढ़ावा देने के लिए बहुत तेजी से आगे बढ़ना हमें इन जानकारियों से वंचित कर देगा।

उन्होंने आगे कहा, सभी के लिए तीसरी खुराक की आवश्यकता हो सकती है, लेकिन ऐसा नहीं हो सकता है। एनएचएस को एक ऐसे बूस्टिंग प्रोग्राम के लिए जुटाना, जिसकी आवश्यकता ही नहीं है, संभावित रूप से लंबे सर्दियों के महीनों में एनएचएस पर अनावश्यक बोझ डालेगा।

सोरियट ने कहा, चूंकि एनएचएस कर्मचारी और संसाधन दुर्लभ हैं, एक और राष्ट्रीय लामबंदी संभावित रूप से हमें कैंसर की जांच के लिए कम संसाधनों एवं डॉक्टरों और नर्सों द्वारा हर दिन प्रदान की जाने वाली अन्य देखभाल पर असर डालेगी।

ब्रिटेन के दवा कंपनी के प्रमुख ने कहा कि यह न केवल यूके के लिए बल्कि बाकी दुनिया के लिए भी महत्वपूर्ण है।

अब तक, भारत में एस्ट्राजेनेका वैक्सीन, कोविशील्ड की 1.2 अरब खुराक वितरित की जा चुकी हैं।

ब्रिटेन में बूस्टर रोल आउट को स्वतंत्र सलाहकार निकाय संयुक्त समिति टीकाकरण और प्रतिरक्षण (जेसीवीआई) से हरी झंडी का इंतजार है, जो सात अलग-अलग बूस्टर टीकों पर अध्ययन के परिणामों की उम्मीद कर रहे हैं।

सोरियट ने आगे कहा कि तीसरी खुराक की आवश्यकता को समझना महत्वपूर्ण है, क्योंकि निर्णय का असली प्रभाव होगा कि हम दुर्लभ एनएचएस संसाधनों को कैसे तैनात करते हैं।

हालांकि उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि बूस्टर खुराक कमजोर, बुजुर्गों या कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों के लिए एक समझदारी वाली चीज और तत्काल सावधानी हो सकती है। इसके साथ ही सोरियट ने कहा कि पूरी आबादी को जबरन इसे प्रदान कराने का निर्णय वास्तविक विश्व नैदानिक प्रभावशीलता डेटा पर आधारित होना चाहिए, न कि केवल एंटीबॉडी के आधार पर निर्णय होना चाहिए।

उन्होंने कहा, वास्तव में, हम नहीं जानते कि गंभीर बीमारी को रोकने के लिए एंटीबॉडी और टी-कोशिकाओं के मिश्रण की क्या आवश्यकता है - सुरक्षा के तथाकथित सहसंबंध। यही कारण है कि हमें तीसरी खुराक पर एक निर्णय लेने से पहले वास्तविक दुनिया के उपयोग से एकत्र किए गए नैदानिक साक्ष्यों को देखने की आवश्यकता है।

दूसरी ओर, यूएस फार्मास्युटिकल प्रमुख फाइजर के सीईओ अल्बर्ट बौर्ला ने घोषणा की थी कि कोविड वैक्सीन प्राप्त करने वालों को पूरी तरह से टीकाकरण के बाद छह से 12 महीने के बीच तीसरी खुराक की संभावित तौर पर आवश्यकता होगी। उन्होंने कोरोनावायरस के खिलाफ वार्षिक टीकाकरण की आवश्यकता का भी सुझाव दिया था।

अमेरिका से भी उम्मीद की जा रही है कि वह जल्द ही अपने सभी नागरिकों के लिए कोविड बूस्टर टीके लगाएगा, यहां तक कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बूस्टर पर रोक लगाने का आह्वान किया है।

अमेरिका ने पहले ही खराब प्रतिरक्षा प्रणाली वाले (इम्युनोकॉम्प्रोमाइज्ड) लोगों के लिए तीसरी खुराक शुरू कर दी है, जबकि इस दिशा में काम कर रहे अन्य देशों में इजरायल, इटली, फ्रांस और रूस शामिल हैं।

--आईएएनएस

एकेके/आरजेएस

Share this story