सामान्य स्थिति बहाल होने तक नौसैनिक अड्डे पर रहेंगे महिंदा राजपक्षे और उनका परिवार, सेना देगी सुरक्षा

सामान्य स्थिति बहाल होने तक नौसैनिक अड्डे पर रहेंगे महिंदा राजपक्षे और उनका परिवार, सेना देगी सुरक्षा
सामान्य स्थिति बहाल होने तक नौसैनिक अड्डे पर रहेंगे महिंदा राजपक्षे और उनका परिवार, सेना देगी सुरक्षा कोलंबो, 11 मई (आईएएनएस)। श्रीलंका के पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे और उनका परिवार तब तक त्रिंकोमाली नौसैनिक अड्डे पर रहेगा, जब तक कि व्यापक हिंसा के बाद द्वीप राष्ट्र में वापस सामान्य स्थिति नहीं हो जाती।

व्यापक हिंसा के बाद मजबूरन कोलंबो से भागने के बाद श्रीलंकाई रक्षा मंत्रालय के सचिव कमल गुणरत्ने ने बुधवार को यह घोषणा की।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, मीडिया को संबोधित करते हुए, गुणरत्ने ने कहा कि जब देश में स्थिति सामान्य हो जाएगी, तब राजपक्षे को उनके इच्छित स्थान पर ले जाया जाएगा।

रक्षा सचिव ने कहा कि चाहे इसमें कितना भी समय लगे, सेना राजपक्षे को तब तक सुरक्षा मुहैया कराएगी, क्योंकि एक पूर्व प्रधानमंत्री के तौर पर वह जीवन भर सुरक्षा के हकदार हैं।

राजपक्षे, उनकी पत्नी शिरंथी और उनके सबसे छोटे बेटे रोहिता सहित उनका समस्त परिवार मंगलवार की सुबह प्रधानमंत्री के सरकारी आवास टेंपल ट्रीज से वायुसेना के हेलीकॉप्टर से रवाना हुआ था।

सोमवार को उनके इस्तीफे के बाद से देश में हिंसा भड़क गई थी।

सोमवार को सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों के साथ सरकार समर्थक समूहों की झड़प के बाद देश में कई हिंसक घटनाएं हुई हैं, जिसमें एक सांसद सहित आठ लोगों की मौत हो चुकी है और 200 से अधिक लोग घायल हो गए हैं।

देशव्यापी कर्फ्यू को गुरुवार सुबह तक बढ़ा दिया गया है।

1948 में स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद से सबसे गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रहा यह द्वीप राष्ट्र वर्तमान में बिना सरकार के ही है।

डॉलर की किल्लत और महंगाई की वजह से गंभीर वित्तीय संकट के बीच राजपक्षे के इस्तीफे की मांग को लेकर 31 मार्च से शुरू हुआ विरोध पूरे देश में जारी है।

विरोध के मद्देनजर कैबिनेट ने इस्तीफा दे दिया लेकिन महिंदा राजपक्षे ने उनके नेतृत्व में एक नई कैबिनेट का गठन किया।

ईंधन और गैस की कमी और घंटों बिजली कटौती के साथ, लोग सड़कों पर उतर आए और सरकार से तत्काल इस्तीफे की मांग की।

इस बीच, राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने विपक्ष से सर्वदलीय सरकार बनाने का आग्रह किया है, लेकिन इसने राजपक्षे के पद छोड़ने तक ऐसा करने से इनकार कर दिया है।

सरकार के स्वामित्व वाली सीलोन पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन ने बुधवार को घोषणा की कि मौजूदा सुरक्षा स्थिति के कारण ईंधन वितरण को अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया गया है।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Share this story