सिटी फुटबॉल ग्रुप के सीओओ रोएल डी व्रीस ने कहा..हमारा लक्ष्य भारत में निवेश करना और खेल को विकसित करना

सिटी फुटबॉल ग्रुप के सीओओ रोएल डी व्रीस ने कहा..हमारा लक्ष्य भारत में निवेश करना और खेल को विकसित करना
सिटी फुटबॉल ग्रुप के सीओओ रोएल डी व्रीस ने कहा..हमारा लक्ष्य भारत में निवेश करना और खेल को विकसित करना मुम्बई, 24 नवम्बर (आईएएनएस)। पिछले हफ्ते मुम्बई सिटी एफसी और बेंगलुरू एफसी के बीच हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) मैच के लिए मुम्बई फुटबॉल एरिना में मौजूद सिटी फुटबॉल ग्रुप के सीओओ रोएल डी व्रीस के अनुसार, भारतीय फुटबॉल का विकास करके इस खेल को आगे बढ़ाना सिटी फुटबॉल ग्रुप के मुख्य लक्ष्यों में से एक है, जिसे यहां उनकी साझेदारी से बढ़ावा मिलेगा। डी व्रीस ने घरेलू टीम द्वारा बेंगलुरू एफसी पर 4-0 की जीत के दौरान स्टेडियम में जोशीले माहौल को अनुभव किया और उसकी सराहना की।

मुम्बई सिटी एफसी के मैच के दौरान डी व्रीस ने कहा, मुझे भारत में रहना पसंद है। मैं यहां पहले भी कई बार आया हूं, लेकिन आज मैं सिटी फुटबॉल ग्रुप के साथ अपनी भूमिका में, और मुम्बई सिटी के लिए भी पहली बार आया हूं। उन्होंने कहा, हम भारत में फुटबॉल के भविष्य के रूप को देख रहे हैं, एक बहुत ही सकारात्मक दिन, और स्टेडियम में माहौल देखने के बाद बहुत जोश में हूं। अब, मैं वास्तविक विकास देख सकता हूं।

पिछले वर्षों में, फुटबॉल स्पोर्ट्स डेवलपमेंट लिमिटेड (एफएसडीएल) ने भारत में समग्र फुटबॉल पारिस्थितिकी तंत्र को विकसित करने के लिए कई तरह की पहल की हैं, जिसमें वैश्विक तकनीकी भागीदारी और हीरो आईएसएल के विकास के साथ-साथ रिलायंस फाउंडेशन यंग चैंप्स जैसे जमीनी स्तर के कार्यक्रम को देश भर में अन्य ग्रासरूट विकास की अन्य पहलों के साथ जोड़ना शामिल है। फुटबॉल ऊपर की ओर बढ़ रहा है। भारत में संपूर्ण फुटबॉल में सुधार हो रहा है, जिससे यह वैश्विक भागीदारी के लिए एक आकर्षक संपत्ति बन गया है। एफएसडीएल के साथ अपनी साझेदारी के जरिये प्रीमियर लीग पहले से ही इन प्रयासों में शामिल है, और सिटी फुटबॉल ग्रुप अब बढ़ती हुई सूची का हिस्सा है।

2019 में, सिटी फुटबॉल ग्रुप ने अधिकांश हिस्सेदारी के अधिग्रहण की घोषणा की थी, जिसे एक सौदे के रूप में देखा गया, जहां मुम्बई सिटी एफसी को ग्रुप के वाणिज्यिक और फुटबॉल ज्ञान से लाभ होगा, साथ ही साथ सीएफजी ग्लोबल वाणिज्यिक मंच को एक नया और रोमांचक तत्व प्रदान किया जाएगा।

डी व्रीस ने कहा कि सिटी फुटबॉल ग्रुप खासतौर से मुम्बई सिटी के विकास के लिए जोर देना जारी रखेगा और साथ ही इसके माध्यम से भारतीय फुटबॉल के बड़े विकास में भी निवेश करेगा। उनका ध्यान हीरो आईएसएल और एफएसडीएल के उद्देश्यों के अनुरूप है, जिसमें एक तेज-तर्रार, उच्च-गुणवत्ता वाली लीग बनाना है, जो बराबरी की टक्कर की वाली टीमों से भरी हो जो प्रशंसकों के अनुभव को बढ़ाएगी।

उन्होंने कहा, हम टीम का विकास चाहते हैं - बेहतर और बेहतर बनना चाहते हैं, साथ ही हम भारत में फुटबॉल को बढ़ावा देने में भी बड़ी भूमिका निभाना चाहते हैं। हमारा मानना है कि भारत में विकास की बहुत संभावनाएं हैं, और जितना ज्यादा हम इस तरह के अधिक मुकाबलों का प्रदर्शन करते हैं, उतना ही बेहतर हम खेलते हैं, उतना ही बेहतर हमारे विरोधी खेलते हैं, और मुझे लगता है कि हम उतना ही बेहतर हासिल करेंगे।

डी व्रीस ने कहा, आप हमसे जो देखेंगे वह फुटबॉल और खिलाड़ियों और कोचों में बहुत अधिक निवेश है, और आप इसे आज पिच पर देख सकते हैं। समूह के अंदर अन्य क्लबों के कई राष्ट्रीयताओं के खिलाड़ी और कोच हैं। हमारी महत्वाकांक्षा वास्तव में खेल में निवेश करना है, इसे बेहतर बनाना है - इसे प्रशंसकों के लिए बेहतर बनाना है, और भारत में इस खेल का विकास करना है। हम यहां इसलिए हैं।

इस सीजन में हीरो आईएसएल ने पहले ही 25 साल से कम उम्र के 20 नवोदित भारतीय खिलाड़ी तैयार किए हैं, क्योंकि सप्ताहांत केंद्रित कार्यक्रम ने कोचों को उनकी भारतीय प्रतिभा को निखारने का अवसर प्रदान किया है। मुम्बई सिटी एफसी के वर्तमान में आईएसएल सीजन में सबसे ज्यादा गोल करने वाले खिलाड़ी हैं, और उसकी ओर 18 गोल किए गए हैं और उनमें से 10 भारतीय खिलाड़ियों ने दागे हैं।

--आईएएनएस

आरआर

Share this story