सीडब्ल्यूजी : पूनम यादव लगातार तीसरी बार भारोत्तोलन में पदक जीतने में नाकाम रहीं

सीडब्ल्यूजी : पूनम यादव लगातार तीसरी बार भारोत्तोलन में पदक जीतने में नाकाम रहीं
सीडब्ल्यूजी : पूनम यादव लगातार तीसरी बार भारोत्तोलन में पदक जीतने में नाकाम रहीं बर्मिघम, 2 अगस्त (आईएएनएस)। भारत की भारोत्तोलक पूनम यादव लगातार तीसरी बार राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीतने में नाकाम रहीं। टूर्नामेंट में मंगलवार को वह अपने तीनों क्लीन एंड जर्क प्रयासों में विफल रहने के बाद महिलाओं के 76 किग्रा वर्ग के फाइनल में अंतिम स्थान पर रहीं।

पूनम ने 2014 राष्ट्रमंडल गेम्स में महिलाओं के 63 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक और 2018 में गोल्ड कोस्ट में 69 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीता था। उन्होंने निराशाजनक शुरुआत की, क्योंकि वह अपने पहले प्रयास में 95 किग्रा भार उठाने में विफल रहीं।

हालांकि, वह अपने दूसरे प्रयास में सफलतापूर्वक उसी वजन को उठाने में कामयाब रही और फिर खुद को पदक की तलाश में रखने के अंतिम प्रयास में स्नैच में अपने व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ और 98 किग्रा के राष्ट्रीय रिकॉर्ड की बराबरी कर ली।

कनाडा की माया लेलर के साथ 100 किग्रा भार उठाकर स्नैच पूरा करने के बाद उन्हें दूसरे स्थान पर रखा गया। लेकिन क्लीन एंड जर्क पूनम के लिए अच्छा साबित नहीं हुआ।

स्नैच में अपने पहले प्रयास की तरह, पूनम अपने पहले क्लीन एंड जर्क प्रयास में 116 किग्रा भार उठाने में विफल रही। लेकिन पहले दौर के विपरीत, वह अगले दो प्रयासों में भी सही नहीं कर सकीं।

मौजूदा राष्ट्रमंडल गेम्स की चैंपियन पूनम ने अंतत: अपने तीसरे प्रयास में 116 किग्रा भार उठाया, जिससे उन्हें पदक मिल सकता था, लेकिन रेफरी के सिग्नल से पहले ही भार नहीं रख दिया और इसे जूरी द्वारा नो-लिफ्ट करार दिया गया।

भारतीय वेटलिफ्टर व्याकुल दिखीं और अपने अंतिम प्रयास के बाद जज के फैसले को चुनौती दी, लेकिन इसे अस्वीकार कर दिया गया, जिससे उन्हें प्रतियोगिता से बाहर कर दिया गया।

--आईएएनएस

आरजे/एएनएम

Share this story