हांगकांग के चुनाव पर पश्चिमी देशों की आलोचना हास्यास्पद है

हांगकांग के चुनाव पर पश्चिमी देशों की आलोचना हास्यास्पद है
हांगकांग के चुनाव पर पश्चिमी देशों की आलोचना हास्यास्पद है बीजिंग, 10 मई (आईएएनएस)। जी-7 के विदेश मंत्रियों और यूरोपीय वरिष्ठ प्रतिनिधि ने वक्तव्य जारी कर 8 मई को चीन के हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र में हुए छठे प्रमुख प्रशासक के चुनाव की आलोचना की। लेकिन यदि हम हांगकांग में चुनाव प्रक्रिया को देखें, तो पता चल सकता है कि अमेरिका समेत पश्चिमी देशों का तथाकथित बयान कितना हास्यास्पद है।

हांगकांग में नयी चुनाव प्रणाली बनाने के बाद पहला प्रमुख प्रशासक का चुनाव होने के नाते इस बार का चुनाव निष्पक्ष, सुरक्षित और स्वच्छ है। हांगकांग की नयी चुनाव प्रणाली के मुताबिक चुनाव कमेटी के सदस्यों की संख्या 1200 से 1500 तक बढ़ गयी, जिससे समाज का और व्यापक प्रतिनिधित्व सुनिश्चित किया गया है और हांगकांग समाज के सामूहिक हितों का प्रतीक माना गया है। ली चाछाओ 99.16 प्रतिशत मतों के साथ प्रमुख प्रशासक चुने गये।

अमेरिका समेत पश्चिमी देशों ने हांगकांग में इस बार के चुनाव को हांगकांग में राजनीति की विविधता पर प्रहार माना और चीन से चीन-ब्रिटेन संयुक्त वक्तव्य के मुताबिक कार्रवाई करने की अपील की। पश्चिमी देशों की यह कार्रवाई अंतर्राष्ट्रीय कानून और अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के मापदंड को बर्बाद करती है, साथ ही एक देश दो व्यवस्थाएं की नीति की सफलता को बदनाम करती है, जो हांगकांग में लोकतंत्र के विकास पर घृणा हस्तक्षेप भी है।

नयी चुनाव प्रणाली से नये प्रमुख प्रशासक चुने गये हैं, अब हांगकांग नयी शुरूआत में खड़ा हुआ है। चाहे पश्चिमी देशों की शक्ति कैसे बदनाम करती है, तो भी हांगकांग के विकास की प्रवृत्ति को नहीं बदल सकती है।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

--आईएएनएस

एएनएम

Share this story