Top
Aap Ki Khabar

बच्चों को मिल सके पोषण का निवाला इसलिए रोज चलाती हैं 18 किलोमीटर नाव

अपने काम को अंजाम देने के लिए रोज 18 किलोमीटर नाव चलाना उतना मुश्किल नही जितना बच्चो को कुपोषित होने से बचाना

बच्चों को मिल सके पोषण का निवाला इसलिए रोज चलाती हैं 18 किलोमीटर नाव
X

Relu vasave of maharashtra

National NewsDesk -यूपी बिहार में जहां सरकारी कर्मचारियों की कामचोरी के समाचार आम हैं वहीं महाराष्ट्र की रेलु वासवे जो आंगनवाड़ी वर्कर हैं 18 किलोमीटर नाव चलाकर आंगनवाड़ी सेंटर जाती हैं जहां उनकी ड्यूटी 6 वर्ष से कम बच्चों की देखभाल के लिए जाती हैं ।

समाचार एजेंसी ANI द्वारा दिये गए समाचार में बताया गया कि अपनी ड्यूटी के प्रति इतनी सजग हैं । आंगनवाड़ी केंद्रों पर छोटे बच्चों को पुष्टाहार दिया जाता है जिससे बच्चे कुपोषित न हों और गर्भवती महिलाएं उनको पोषण मिलता रहे । सरकार की इस महत्वपूर्ण योजना की जिम्मेदारी आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों और सहायिकाओं पर रहता है जिसको पुराकरने के लिए महाराष्ट्र की रेलु वासवे ने जो किया है वह अनुकरणीय है।



रेलु वासवे ने ANI से बात करते हुए कहा कि 18 किलोमीटर नाव चलाना काफी मुश्किल भरा है लेकिन यह उतना मुश्किल नहीं है कि उन बच्चों को पोषण मिल सके जिनके लिए उनकी ड्यूटी है इसलिए वह रोज इस काम को करते हैं जिससे बच्चों में जो कुपोषण है वह दूर किया जा सके और इनकी ड्यूटी पूरी सजगता के साथ पूरी हो सके.




Next Story
Share it