Who Are The Houthis And Why Are They Attacking Ships In The Red Sea? आखिर क्यों दुनिया में चर्चा का विषय बना हुआ है हौथी आंदोलन..!

who are the houthis and what do they want

Why are the Houthis rebelling:  हौथी जहाजों पर हमला क्यों कर रहा है?

What are the Houthi rebels fighting for? यमन में हूती विद्रोही

Why does Iran support Houthis? हूती विद्रोही और ईरान का इतिहास

पिछले कुछ हफ़्तों से एक नया विवाद चर्चा में है जिसने दुनिया की नजर अपनी ओर खींची है। हालांकि इस विवाद की जड़े भी इजराइल (israel news) और गाज़ा के बीच की जंग (israel vs palestine) से जुडी हुई बतायी जा रही हैं। मामला तब सामने आया जब यमन में हौथी विद्रोहियों ने लाल सागर और बाब अल-मंदब जलडमरूमध्य में जहाजों को निशाना बनाकर ड्रोन और रॉकेट से हमले किये। यहां यह जानना जरुरी है कि  बाब अल-मंदब जलडमरूमध्य ((bab el-mandeb connects) हिन्द महासागर और भूमध्य सागर के बीच का एक बहुत ही महत्वपूर्ण समुद्री रास्ता है। साथ ही यह लाल सागर और स्वेत नहर के माध्यम से हिन्द महासागर और भूमध्य सागर के बीच एक रणनीतिक कड़ी के रूप में कार्य करता है। इस जलसंधि का रणनीति के साथ ही आर्थिक महत्त्व भी है, जो भूमध्य सागर और पूर्वी एशिया के बीच लिंक का एक हिस्सा बना। अब हम यह जानने की कोशिश करेंगे कि हौथिस कौन हैं, आखिर क्यों ये लोग इतने महत्वपूर्ण व्यापार मार्ग को अपना निशाना बना रहे हैं और किसकी सहायता से इन्होने खुद को इतना शक्तिशाली बनाया। According to google trends Red Sea, Hauthi movement, yamen trending on google.

What's happening in Red Sea? रेड सी अटैक क्या है। 

red sea attacks 2023  यमन में हौथी विद्रोहियों ने गाजा पर इजरायल की बमबारी के जवाब में नवंबर के मध्य से निचले लाल सागर से यात्रा करने वाले वाणिज्यिक शिपिंग जहाजों पर हमले काफी तेज कर दिए हैं। हौथी विद्रोही, जो यमन के कुछ हिस्से को नियंत्रित करते हैं और ईरान से हथियार और प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं, ने हाल के हफ्तों में लाल सागर से गुजरने वाले वाणिज्यिक जहाजों पर मिसाइल और ड्रोन हमले किए हैं।

What's happening in Red Sea?

 Who are Houthis rebels? हौथी विद्रोही कौन है। 

According to Wikipidia हौथिस यमन में रहने वाला एक सदियों पुराना समुदाय है जोकि शिया मुस्लिम सम्प्रदाय से आता है। ये समुदाय यमन में अल्पसंख्यक है जो देश की पूरी आबादी का एक तिहाई है। यमन मेंलंबे समय से शिया और सुन्नियों के बीच संघर्ष चला आ रहा है। ऐसे में शियाओं की आवाज को मुखर करने के लिए 1990 के दशक में शिया मुसलमानों ने एक विद्रोही संगठन बनाया, जिसे हाउती या हौथी कहते हैं। ये खुद को 'अल्लाह का समर्थक' बताते हैं। इन्होने यमन की सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया और इसे सऊदी अरब और अमेरिका द्वारा समर्थित होने का आरोप लगाकर आलोचना की। इन्होने तात्कालिक राष्ट्रपति पर यमन की सम्प्रभुता की कीमत पर सयुक्त राज्य अमेरिका के हितों को खुश करने की कोशिश का आरोप लगाया। यह समुदाय मुख्य रूप से लेबनानी शिया राजनीति एवं सैन्य संगठन हबीबुल्ला से प्रभावित हुआ और देश में अल्पसंख्यक होने के बाद भी इसने जल्द ही लोकप्रियता प्राप्त कर ली। 

हौथी विद्रोही कौन है

हौथी आंदोलन, जिसे अंसारल्लाह (ईश्वर के समर्थक) के रूप में भी जाना जाता है, यह यमनी गृहयुद्ध का एक पक्ष है जो लगभग एक दशक से जारी है। यह 1990 के दशक में उभरा, जब इसके नेता, हुसैन अल-हौथी ने, शिया इस्लाम के सदियों पुराने उप-संप्रदाय जिसे ज़ैदिज्म कहा जाता है, के लिए एक धार्मिक पुनरुद्धार आंदोलन "बिलीविंग यूथ" शुरू किया। हौथी आंदोलन खुद को आर्थिक विकास के लिए लड़ने , जैदी शियाओं के राजनीतिक हाशिये पर जाने की समाप्ति, [82] और अपने मीडिया में क्षेत्रीय राजनीतिक-धार्मिक मुद्दों को बढ़ावा देने, एक व्यापक इजरायली और अमेरिकी साजिश सिद्धांत की बयानबाजी को बढ़ावा देने के द्वारा यमन में अनुयायियों को आकर्षित करता है।

israel-gaaza conflict

Red Sea Yamen : क्या यमन पर हौथी समुदाय का कब्ज़ा है ?

बता दें, हौथिस का लक्ष्य पूरे यमन पर शासन करना और संयुक्त राज्य अमेरिका, इज़राइल और सऊदी अरब के खिलाफ बाहरी आंदोलनों का समर्थन करना है। हौथी समुदाय का यमन के अधिकांश हिस्सों पर नियंत्रण है। जिसमें राजधानी साना और अल-हुदायदाह का प्रमुख बंदरगाह, हज्जाह, ताइज़ के उत्तरी, दक्षिणी और केंद्रीय राज्यपालों के कुछ हिस्सों को छोड़कर हौथियों का पूर्व उत्तरी यमन के सभी हिस्सों पर नियंत्रण है।  इसके बाद जो सबसे बड़ा प्रश्न आता है वो है कि क्या यह संगठन आतंकवादी संगठन है या यह कोई राजनीतिक संगठन है। आपको बता दें 2021 में अमेरिकी सरकार द्वारा इस संगठन को युद्ध को कम करने की उम्मीद में इसे एक वैध राजनितिक गुट के रूप में मान्यता देने के लिए एक पतली रेखा के बीच का माना। उन्होंने कहा कि यमन में चल रहे गृहयुद्ध के लिए दोनों ही पक्ष जिम्मेदार हैं। 

 क्या यमन पर हौथी समुदाय का कब्ज़ा है

What is Red Sea crisis? हौथिस जहाज पर हमला क्यों कर रहे हैं। 

इस सप्ताह हौथी आंदोलन की तरह से एक बयान सामने आया जिसमें कहा गया कि उनका यह 'नौसेना अभियान' गाजा पर इजराइल की आक्रामकता और घेराबंदी का सामना करने में फिलिस्ती लोगों का समर्थन करने के लिए किया जा रहा है। इन विद्रोहियों का दावा है कि उनके पास बैलिस्टिक मिसाइलों और ईरानी निर्मित हमलावर ड्रोन की आपूर्ति है। साथ ही उनका दावा हैं कि वे इज़राइल व उनसे अन्य सहयोगी देशों से संबंधित जहाजों को निशाना बना रहे हैं। अमेरिकी युद्धपोतों ने हाल के दिनों में यमन से लॉन्च किए गए हमलावर ड्रोनों की बढ़ती संख्या को मार गिराया था, जिसमें अकेले 16 दिसंबर को गिराए गए एक दर्जन से अधिक ड्रोन शामिल हैं।

 

 

 

Share this story