aapkikhabar aapkikhabar

क्या है Raksha Bandhan बांधने का शुभ मुहूर्त



क्या है Raksha Bandhan बांधने का शुभ मुहूर्त

Raksha Bandhan

Raksha Bandhan  का त्योहार सावन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है।


डेस्क-भाई-बहन का प्‍यारा त्‍योहार यानि Raksha Bandhan इस माह के 26 अगस्त को पड़ रहा है। इसे मनाने के लिए शुभ मुहूर्त का जान लेना काफी जरुरी होता है।



रक्षा बंधन का त्योहार सावन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस दिन बहन अपने भाईयों को राखी बांधती हैं। इसके साथ ही उनकी लंबी उम्र की कामना करती हैं। इस बार रक्षाबंधन पर राखी बांधने का शुभ मुहूर्त 11 घंटे 26 मिनट का है।



  • इस रक्षा बंधन पर बहन सुबह 5:59 मिनट से शाम 17:12 मिनट तक राखी बांध सकती हैं।

  • यह भी कहा जा रहा है कि रक्षा बंधन के दिन इस बार भद्रा नहीं लग रहा है।

  • इसलिए बहन शाम 5 बजकर 12 मिनट तक राखी बांध सकती हैं।

  • ज्योतिष के अनुसार रक्षा बंधन के दिन थाली सजाकर भाई की आरती उतारनी चाहिए।

  • इस मंत्र के साथ रक्षा बंधन मनाई जाती है।


कितनी भी फूटी हो किस्मत, बस घर में रोज करें ये 5 काम


Raksha Bandhan बांधते समय ये मंत्र बोले 



येन बद्धो बलि: राजा दानवेंद्रो महाबल:।
तेन त्वामपि बध्नामि रक्षे मा चल मा चल।



जाने क्या है इस मन्त्र का अर्थ
जिस रक्षासूत्र से महान शक्तिशाली राजा बलि को बांधा गया था, उसी सूत्र से मैं तुम्हें बांधता हूं। हे रक्षे (राखी), तुम अडिग रहना। अपने रक्षा के संकल्प से कभी भी विचलित मत होना।
यह भी कहा जा रहा है कि रक्षा बंधन के दिन इस बार भद्रा नहीं लग रहा है। इसलिए बहन शाम 5 बजकर 12 मिनट तक राखी बांध सकती हैं। ज्योतिष के अनुसार रक्षा बंधन के दिन थाली सजाकर भाई की आरती उतारनी चाहिए।
इस मंत्र के साथ रक्षा बंधन मनाई जाती है।


जाने शुभ मुहूर्त



  • प्रातः 7.43 से 9.18 तक चर

  • प्रातः 9.18 से 10.53 तक लाभ

  • प्रातः10.53 से 12.28 तक अमृत

  • दोपहर: 2.03 से 3.38 तक शुभ

  • सायं: 6.48 से 8.13 तक शुभ


22 अगस्‍त को Putrada Ekadashi के दिन बन रहा है शुभ संयोग



रक्षा बंधन के दिन ऐसे  तैयार करें पूजा की थाली 



  • रक्षा बंधन के दिन बहनें प्रातः काल उठकर नए कपडे पहने कर राखी की थाली तैयार करती हैं।

  • उस थाल में राखी, कुमकुम, हल्दी, अक्षत और मिष्ठान रहता है।

  • भाई को तिलक कर उसकी आरती करती है|

  • उसके ऊपर अक्षत फेकती है।

  • अब राखी भाई के दाहिनी कलाई पर बांधी जाती है।


हिन्दू मृतात्मा को RIP क्यों नही लिखी जाती है


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के