aapkikhabar aapkikhabar

धनदायक श्री कुबेर उपासना विधि जानिए



aapkikhabar
+4

कुबेर देव को धन का देवता माना जाता है


डेस्क-कुबेर धन के अधिपति यानि धन के राजा हैं। पृथ्वीलोक की समस्त धन संपदा का एकमात्र उन्हें ही स्वामी बनाया गया है। कुबेर भगवान शिव के परमप्रिय सेवक भी हैं। धन के अधिपति होने के कारण इन्हे मंत्र साधना द्वारा प्रसन्न करने का विधान बताया गया है।


कुबेर मंत्र को दक्षिण की और मुख करके ही सिद्ध किया जाता है।
अति दुर्लभ कुबेर मंत्र इस प्रकार है :- मंत्र :- "ॐ श्रीं, ॐ ह्रीं श्रीं, ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय: नम:।
मन्त्र जप से पहले विनियोग करें :- "अस्य श्री कुबेर मंत्रस्य विश्वामित्र ऋषि:वृहती छन्द: शिवमित्र धनेश्वरो देवता समाभीष्टसिद्धयर्थे जपे विनियोग |


इसे भी पढ़े-कौन नही खुश होगा Dipawali 2018 पर नए कपड़े और मिठाइयां पाकर वो भी DM Gonda के हाथों


इसे भी पढ़े-INDvWI Team India ने पहले T20 मैच में West Indies को 5 विकेट से हराया


हवन
तिलों का दशांस हवन करने से प्रयोग सफल होता है। यह प्रयोग शिव मंदिर में करना उत्तम रहता है। यदि यह प्रयोग बिल्वपत्र वृक्ष की जड़ों के समीप बैठ कर हो सके तो अधिक उत्तम होगा। प्रयोग सूर्योदय के पूर्व संपन्न करें।


"मनुजवाह्य विमानवरस्थितं गुरूडरत्नानिभं निधिनाकम्।
शिव संख युक्तादिवि भूषित वरगदे दध गतं भजतांदलम्।।


कुबेर के अन्य सिद्ध विलक्षण मंत्र :-
अष्टाक्षर मंत्र :- "ॐ वैश्रवणाय स्वाहा:"
षोडशाक्षर मंत्र :- "ॐ श्री ॐ ह्रीं श्रीं ह्रीं क्लीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय नम:।"
पंच त्रिंशदक्षर मंत्र :- "ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धन धान्याधिपतये धनधान्या समृद्धि देहि दापय स्वाहा।

पिछली स्लाइड     अगली स्लाइड


सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के