Yoga Day 2024 Pawanmuktasana Benefits In Hindi: द्रुत पवनमुक्तासन कैसे करें, विधि और लाभ

Yoga Day 2024 Pawanmuktasana Benefits In Hindi
Pawanmuktasana Benefits In Hindi

Yoga Day 2024 Pawanmuktasana Benefits In Hindi

पवनमुक्तासन कैसे करें, विधि और लाभ

Yoga Day 2024 Pawanmuktasana In Hindi Pawanmuktasana Benefits In Hindi Method Tips : हेल्थ डेस्क, नई दिल्ली। संसार में कुछ करने से पहले उसकी जिज्ञासा या इच्छा होना पहला कदम होता है। फिटनेस पाने के लिए फिट रहने की इच्छा होना सर्वोपरि है। यह इच्छा स्वप्रेरित होनी चाहिए। आजकल फिटनेस शब्द का तात्पर्य केवल अच्छे शारीरिक सौंदसौं र्य व सौष्ठव से होता है। जबकि सम्पूर्ण फिटनेस में मानसिक, शारीरिक व आध्यात्मिक आयाम भी होते हैं। इसमें शरीर के अंगों की गति एवं चालन शामिल होता है। हम योग से फिटनेस पाने के तरीकों पर बात करेंगे।

द्रुत पवनमुक्तासन क्या होता है? (What Is Pawanmuktasana)
शारीरिक फिटनेस में पांच मुख्य तत्त्व होते हैं जो कि शक्ति, सहनशक्ति, लचीलापन, समन्वय और संतुलन हैं। ये सभी तत्त्व योग द्वारा प्राप्त या बढ़ाए जा सकते हैं। शक्ति व लचीलापन मांसपेशियों के सिकुड़ने और विस्तार पर निर्भर करता है, जो सभी योगासनों में बहुतायत से होता है। सहनशक्ति या स्टेमिना का तात्पर्य कार्डियोवेस्कुलर फिटनेस से होता है। हार्वर्ड हैल्थ पब्लिकेशन्स के एक लेख के अनुसार योग कार्डियोवेस्कुलर फिटनेस और स्वास्थ्य के लिए उत्तम व सम्पूर्ण व्यायाम है। जबकि सूर्य नमस्कार एवं वृक्षासन समन्वय एवं गति के लिए असरदार व उपयुक्त हैं। शारीरिक फिटनेस के लिए एक आसन है जिसे द्रुत पवनमुक्तासन कहते हैं।

द्रुत पवनमुक्तासन कैसे करें विधि ? (Pawanmuktasana Process)
1. पीठ के बल आराम से लेट जाएं।
2. अब दाएं पैर को घुटने से मोड़कर रखें। बायां पैर सीधा जमीन पर ही रहने दें।
3. अब दोनों हाथों की अंगुलियों को आपस में फंसाकर दाएं घुटने पर रखें।
4. फिर श्वास छोड़ते हुए दाएं पैर को मोड़ते हुए सीने से लगाएं। सीने के ऊपरी भाग को उठाते हुए नाक से घुटने को छूने का प्रयास करें।
5. फिर घुटने को छोड़कर पैर सीधा करें और सीधे लेट जाएं।
6. अब इसी क्रिया को पैर बदलकर अवश्य दोहराएं।
7. यह क्रिया शुरुआत में धीरे-धीरे करें, फिर इसकी गति को अपनी क्षमता के अनुसार बढ़ाएं। जब थकने लगें तो रुककर आराम कर इसे दोबारा दोहराएं।

द्रुत पवनमुक्तासन के लाभ / फायदे क्या हैं? (Pawanmuktasana Benefits)
इससे मांसपेशियां सशक्त होती हैं जिससे लचीलापन और ताकत बढ़ती है।
द्रुत गति से करने पर हृदय गति बढ़ती है। ऑक्सीजन का उपभोग बढ़ता है। 
इसे यौगिक कार्डियो कहते हैं। यह व्यक्ति के स्टेमिना में वृद्धि करता है।
इससे व्यक्ति के शरीर के दाएं और बाएं भागों में समन्वय होता है।
कब्ज और वायु विकार दूर करता है।

द्रुत पवनमुक्तासन करने से पहले रखें इस बात का ध्यान (Pawanmuktasana)
उच्च रक्तचाप हर्निया या हृदय रोगियों को इसे योग गुरु की देखरेख में करना चाहिए या अपने डॉक्टर की सलाह पर ही इस तरह के आसन किए जाने चाहिए, ताकि उन्हें किसी तरह की समस्या न हो। अष्टांग योग में सम्पूर्ण फिटनेस के लिए चेतना का उपयोग किया जाता है।
 

Share this story