Uttarayani Kauthing-2024 Closing Day : पुनः अगले वर्ष फिर मिलने के वादे के साथ सम्पन्न हुआ उत्तरायणी कौथिग 2024 

Uttarayani Kauthing-2024 Closing Day : पुनः अगले वर्ष फिर मिलने के वादे के साथ सम्पन्न हुआ उत्तरायणी कौथिग 2024 
लखनऊ। पर्वतीय महापरिषद, लखनऊ द्वारा आयोजित 10 दिवसीय (14 से 23 जनवरी ) उत्तरायणी कौथिग-2024 के “समापन दिवस” का शुभारम्भ ‘‘पुरूष्कार वितरण’’ कार्यक्रम के तहत् एकल गायन, एकल नृत्य, सामुहिक नृत्य, चित्रकला, निबंध, वाद-विवाद, सामान्य ज्ञान, अपनी बोली अपनी भाषा, खेलकूद के प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त प्रतिभागियों को लगभग 500 से अधिक पुरूष्कार वितरित किए गए।  
 

20 मेधावी विद्यार्थियों मंच से पर्वतीय महापरिषद द्वारा पुरूष्कृत किया गया

‘मेधावी सम्मान’’ के अर्न्तगत षिक्षा में उत्कृष्ट अंकों से उत्तीर्ण 20 मेधावी विद्यार्थियों को भी उत्तरायणी कौथिग के मंच से पर्वतीय महापरिषद द्वारा पुरूष्कृत किया गया।   प्रथम सत्र के अवसर पर मुख्य अतिथि लोकसभा सांसद श्रीमती रीता बहुगुणा जोषी ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का षुभारम्भ किया। 

पुनः अगले वर्ष फिर मिलने के वादे के साथ सम्पन्न हुआ उत्तरायणी कौथिग 2024
        

सांस्कृतिक कार्यक्रम 

सांस्कृतिक संध्या में ओहो डिजिटल रेडियो उत्तराखण्ड के निर्माता आर जे काव्य, उत्तराखण्ड की मषहूर अभिनेत्री स्वेता मेहरा के ‘‘मैं पहाड़न मेरा झुमका पहाड़ी  गीतों पर नृत्य, मेहमान कलाकार सौरव मैठाणी, मनोज सामंत एवं ललित गित्यार ने अपने हुनर से उपस्थित दर्षकों को झूम कर नाचने को विवष कर दिया जिससे सर्द षाम गर्म जोष में बदल गई और कौथिग में कौतुहल की गंगा बह निकली। 

पुनः अगले वर्ष फिर मिलने के वादे के साथ सम्पन्न हुआ उत्तरायणी कौथिग 2024

मुख्य अतिथि
    
समापन दिवस के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में राज्य सभा सांसद एवं पूर्व उपमुख्यमंत्री डा0 दिनेष षर्मा उपस्थित रहे।  अतिथि का स्वागत मुख्य संयोजक टी एस मनराल, संयोजक के एन चन्दोला, अध्यक्ष गणेष जोषी एवं महासचिव महेन्द्र सिंह रावत ने पुष्प माला पहना कर किया गया।  

पुनः अगले वर्ष फिर मिलने के वादे के साथ सम्पन्न हुआ उत्तरायणी कौथिग 2024

युवा सम्मान 2024

2024 का सांस्कृतिक के क्षेत्र में गोविन्द बोरा व सरोज खुर्ल्बे व युवा सम्मान मुख्य अतिथि डा0 दिनेष षर्मा द्वारा सुदीप जोषी,ख्याली सिह कड़ाकोटी व उत्तरायणी सर्वश्रेष्ठ कार्यकर्ता सम्मान के एस रावत, बसन्त भटट, गौरा देवी जानकी अधिकारी,  उत्तरायणी सम्मान नरेन्द्र सिह देवडी, आजे काव्य, लाबीर सिह बिष्ट को दिया गया। मीडिया प्रभारी हेमन्त सिह गडिय ने बताया कि  उत्तरायणी कौथिग में अन्तिम दिन होने के कारण जन षैलाब उमड़ कर आया, लोगों ने जमकर खरीदारी की।  जिससे स्टॉल धारकों व आयोजक मण्डल के चेहरे खिले हुए थे। 

पुनः अगले वर्ष फिर मिलने के वादे के साथ सम्पन्न हुआ उत्तरायणी कौथिग 2024

  
कार्यक्रम व्यवस्था में कोषाध्यक्ष के एस रावत, सहकोषाध्यक्ष एम एस मेहता, चंचल सिंह बोरा, डा0 बी0 एस0 नेगी, रविन्द्र बिष्ट, गोपाल गैलाकोटी, षंकर पाण्डेय, गोपाल जोषी, नारायण पाठक, संजय पाण्डेय, पूरन जोषी के एन पाठक, कमल नेगी, रमेष उपाध्याय, पी पी पन्त, हरीष काण्डपाल, आनन्द भण्डारी, बी बी चन्दोला, बसन्त भट्ट, गोविन्द पाठक, कैलाष बिनवाल, महेष बिष्ट महिला प्रकोष्ठ से सुमन रावत मंजू पडेलिया, गंगा भट्ट, सुमन मनराल, माया भट्ट, चित्रा काण्डपाल, दीप्ती जोषी, मोहिनी धपोला युवा प्रकोष्ठ से प्रभारी मोहन बिष्ट मोना, पुष्कर नयाल, सुनील किमोठी, सुदीप जोषी, दीपक चिलकोटी, भुवन पाण्डेय, प्रषान्त भण्डारी, चन्द्रकांत जोषी, सूरज बिष्ट, प्रदीप बिष्ट व टी डी काण्डपाल का सहयोग रहा।

पुनः अगले वर्ष फिर मिलने के वादे के साथ सम्पन्न हुआ उत्तरायणी कौथिग 2024

कार्यक्रम संचालन महासचिव महेन्द्र रावत, संयोजक के एन चन्दोला, सांस्कृतिक प्रभारी महेन्द्र पन्त, सचिव गोविन्द बोरा, सुन्दर पाल सिंह बिष्ट एवं गोपाल गैलाकोटी द्वारा किया गया। कौथिग 2024 प्रो0 आर सी पन्त, एन के उपाध्याय, डी डी नरियाल, राजेन्द्र सिंह रावत एवं लाबीर सिंह बिष्ट के संरक्षण में सम्पन्न हुआ।

ब्यूरो चीफ आर एल पाण्डेय

Share this story