Shani Vakri 2021: 23 मई से 'शनि' की उल्टी चाल, जानिए राशियों पर प्रभाव

Shani
Shani Vakri 2021: ज्योतिष के मुताबिक शनि वक्री होने वाला है। शनि का यह वक्री 23 मई, रविवार को दोपहर 02 बजकर 53 मिनट पर होगा।

Shani Vakri 2021 23 may : ज्योतिष के मुताबिक शनि वक्री होने वाला है। शनि का यह वक्री 23 मई, रविवार को दोपहर 02 बजकर 53 मिनट पर होगा। वक्री होकर शनि मकर राशि में जाएगा। मार्गी शनि यहां तकरीबन चार महीने (121 दिन) तक रहेगा। ज्योतिष में शानि की उल्टी चाल (शनि मार्गी/shani margi 2021) को बुरा परिणाम देने वाला बताया गया है। हालांकि कुछ स्थितियों में शनि मार्गी का शुभ परिणाम भी मिलता है। शनि के इस मार्गी अवस्था के दौरान मकर, कुम्भ और धनु राशि पर साढ़ेसाती रहेगा। जबकि मिथुन और तुला राशि पर शनि का ढैय्या रहेगा। आगे पढ़िए शनि के इस उल्टी चाल से सभी राशियों पर क्या असर होगा।

Shani vakri 2021 shani vakri effect on all zodiac


मेष: शनि के इस वक्री से आपके कार्यों में बाधा उत्पन्न होगा। अधिक मेहनत के बावजूद भी अनुकूल परिणाम नहीं मिलेगा। किसी भी प्रकार के नए कार्य की शुरुआत करने से बचें।

वृषभ: शनि के इस वक्री से पिता से मनमुटाव हो सकता है। पिता से बातचीत के दौरान बिल्कुल सावधानी बरतें। 

मिथुन: शनि के इस वक्री से आपको व्यापार में आंशिक नुकसान सहना पड़ सकता है। व्यापार में निवेश करने से बचें। नशा से दूर रहें। 

कर्क: शनि के इस वक्री से पारिवारिक झंझटों से दो-चार होना पड़ेगा। हालांकि व्यापार में लाभ की प्रबल संभावना है। 

सिंह: शनि की इस वक्री से फिजूलखर्ची बढ़ेगा। नौकरी के नए प्रस्ताव मिलेंगे। लाइफ पार्टनर के साथ अथवा लव पार्टनर के संबंध मधुर होगा।

कन्या: शनि के इस वक्री के दौरान नौकरी को लेकर सतर्क रहना होगा। नौकरी छूटने की संभावना है। किसी भी प्रकार के विवाद से बचें।

तुला: शनि की इस वक्री के दौरान माता की सेहत का ख्याल रखें। अनावश्यक खर्च की अधिकता रहेगी। मानसिक तनाव से बचें।

वृश्चिक: शनि की इस वक्री के दौरान घर से दूर परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। इसके अलावा शरीरिक और मानसिक थकान हो सकता है। आर्थिक संकट का सामना करना पड़ेगा।

धनु: भविष्य के लिए आर्थिक योजना बना सकते हैं, जो कि लाभकारी साबित होगा। आर्थिक परेशानी से मानसिक तनाव उत्पन्न होगा।

मकर: शनि की इस वक्री के दौरान आप बहुत सोच समझकर निर्णय लेने वाले है। हालांकि कुछ निर्णय आपके लिए नुकसानदेह हो सकता है। घर पर समय बिताना आपके लिए अच्छा रहेगा।

कुंभ: शनि के इस वक्री से मानसिक अशांति बनी रहने वाली है। जिस कारण से आपको ऊर्जा की कमी महसूस होगी। पूजा-पाठ से शांति मिल सकती है।

मीन: शनि की इस वक्री के दौरान आपको व्यापार का नया अवसर मिलेगा। शनि वक्री के दौरान फिजूलखर्ची से बचकर चलना होगा। परिवार के लोगों के साथ समय बिताएं।

उपाय- 

शनिवार के दिन शनि मंदिर में सरसों के तेल का दीपक जलाएं।

शनि मंत्र- "ॐ प्रां प्रीं प्रौं स: शनैश्चराय नम:" 

ॐ ऐं ह्लीं श्रीशनैश्चराय नम:"

उपरोक्त दोनों में से किसी एक मंत्र का स्पष्ट उच्चारण कर जाप करें।

Share this story