मंत्री, जलशक्ति की अध्यक्षता में बाढ़ एवं जल जीवन मिशन की समीक्षा बैठक सम्पन्न
 

Review meeting of Flood and Jal Jeevan Mission concluded under the chairmanship of Minister, Jal Shakti
Review meeting of Flood and Jal Jeevan Mission concluded under the chairmanship of Minister, Jal Shakti
उत्तर प्रदेश डेस्क लखनऊ (आर एल पाण्डेय)।प्रदेश के मंत्री, जल शक्ति विभाग (सिंचाई एवं जल संसाधन, बाढ़ नियंत्रण, परती भूमि विकास, लघु सिंचाई, नमामि गंगे एवं ग्रामीण जलापूर्ति विभाग) श्री स्वतन्त्र देव सिंह जी सोमवार देर रात्रि लक्ष्मणपुर कोठी राप्ती बैराज स्थित निरीक्षण गृह में पहुंचे।

तत्पश्चात मा मंत्री जी की अध्यक्षता में  जनपद श्रावस्ती, गोंडा एवं बलरामपुर के अधिकारियों के साथ बाढ़ को देखते हुए राहत एवं बचाव कार्य के लिए अबतक की गई कार्यवाही के साथ ही जल जीवन मिशन योजना की भी समीक्षा बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में मा0 मंत्री जी ने बाढ़ के मद्देनजर राहत एवं बचाव कार्य के लिए सभी व्यवस्थाएं चुस्त-दुरूस्त करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि बाढ़/बरसात के पानी से पैदा होने वाली सम्भावित संक्रामक बीमारियों से बचाव हेतु कारगर कदम उठाया जाए। इसके लिए विशेष साफ सफाई की व्यवस्था की जाए, सेनेटाइजेशन/दवा का छिड़काव कराने के साथ ही लोगों को स्वच्छ पेयजल का प्रयोग करने हेतु लोगों को प्रेरित किया जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि बाढ़ या बरसात के दौरान यदि घर/फसल की क्षति होती है, तो उसका सर्वे कराकर आंकलन किया जाए, ताकि सम्बन्धित पीड़ित व्यक्ति को क्षतिपूर्ति मुहैया हो सके।


 बाढ़ को देखते हुए पशुओं को चारे की कोई दिक्कत न होने पाए, इसके लिए भूसा आदि के इंतेजाम की आवश्यक कार्यवाही की जाए तथा पशुओं को बरसात के दिनों में होने वाली बीमारियों के बचाव हेतु शत-प्रतिशत टीकाकरण कराने हेतु निर्देश दिया।
  मा0 मंत्री जी ने सभी विभागीय अधिकारियों से उनके विभाग द्वारा की जा रही तैयारियों की विधिवत जानकारी ली तथा अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि सभी अधिकारीगण अपने दायित्व बोध से कार्य करके जिले का चहुँमुखी विकास करें। विभिन्न विभागों द्वारा संचालित योजनाओं को धरातल पर उतारकर पात्रजनों को लाभान्वित किया जाए। और यह भी ध्यान रखा जाए कि कोई भी गरीब, असहाय एवं बेसहारा व्यक्ति सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं से वंचित न रहने पाए। 
इस दौरान मा0 मंत्री जी ने जिले में बाढ़ से बचाव हेतु कराये गये कटान रोधी कार्याे की भी समीक्षा की तथा सम्बन्धित अधिशासी अभियंता को निर्देश दिया कि  बरसात का मौसम होने के कारण उन बांधों पर व्यापक निगरानी भी रखा जाए। 


बैठक के दौरान अपर जिलाधिकारी (वि0/रा0) अमरेन्द्र कुमार वर्मा ने मा0 मंत्री जी को अवगत कराया कि वर्तमान में नदी का जलस्तर कम हो गया है। फिर भी नदी के घटते-बढ़ते जल स्तर पर नजर रखी जा रही है। जिले में एन0डी0आर0एफ0 एवं फ्लड पीएसी की टीम सक्रिय रूप से कार्य कर रही है।  इसके अलावा बाढ़ प्रभावित क्षेत्रो के गांवो में नाव की भी व्यवस्था करायी गई है, जिससे लोगो को रेस्क्यू कर जनपद में बनाए गए बाढ राहत शिविर/शरणालय में पहुंचाया जा रहा है। बाढ़ पीड़ितों को पका भोजन भी लगातार उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि सभी बाढ़ चौकी प्रभारियों एवं चौकी पर तैनात अधिकारियों/कर्मचारियों को डियूटी पर मुस्तैद रहने का पहले से ही निर्देश दिया गया है। उन्होने बताया कि जिले में 19 बाढ़ चौकियों की स्थापना की गई है।  


बैठक में जल जीवन मिशन योजना की समीक्षा के दौरान मा0 मंत्री जी ने कहा कि जन-जन को स्वस्थ्य रखने के लिए शुद्ध पेयजल मुहैया कराने के लिए देश एवं प्रदेश की सरकार प्रतिबद्ध है। इसलिए जिले में प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी हर घर नल योजना का संचालन कर हर घर को नल से जोड़ने का कार्य किया जा रहा है। इस कार्य में तेजी लायी जाए और गुणवत्तापूर्ण ढंग से कार्य कराकर लोगों को स्वच्छ व शुद्ध पेयजल मुहैया कराकर इस योजना को अमली जामा पहनाया जाए। जिससे लोगों को स्वच्छ पेयजल मुहैया हो सके। बैठक समाप्त होने पर अपर जिलाधिकारी ने कहा कि मा0 मंत्री जी द्वारा दिये गये निर्देशों का अक्षरशः अनुपालन सुनिश्चित किया जायेग और जिले के विकास के लिए निरन्तर प्रयास किया जायेगा।

इस अवसर पर मा0 विधायक रामफेरन पाण्डेय, मा0 सदस्य विधान परिषद डा0 प्रज्ञा त्रिपाठी, पुलिस अधीक्षक घनश्याम चौरसिया उपजिलाधिकारी जमुनहा एस0के0 राय, अधिशासी अभियंता बाढ़ कार्य खण्ड दिनेश कुमार तिवारी, अधिशासी अभियंता जल निगम एस0एम0 असजद सहित जनपद श्रावस्ती, बलरामपुर एवं गोण्डा के अन्य विभागीय अधिकारीगण सहित मा0 जनप्रतिनिधिगण उपस्थिति रहे।

Share this story