aapkikhabar aapkikhabar

अब आपके घर से चोर बचकर नही जा सकता इस 10 साल के लडके ने बनाया ऐसा गैजेट



अब आपके घर से चोर बचकर नही जा सकता इस 10 साल के लडके ने बनाया ऐसा गैजेट

ये है चोर पकड़ने वाला गैजेट

डेस्क- आज कल के लडके कुछ न कुछ खुराफात करते रहते है और वही खुराफात में कुछ नया बनकर निकल आता है जैसे की इस बच्चे ने किया है आपको बता दे ट्रांजिस्टर, रजिस्टेंस, बैटरी या लेजर जैसे भौतिक विज्ञान के उपकरणों की पढ़ाई हायर सेकेंडरी की ऊंची कक्षाओं में होती है पर 5वीं में पढ़ रहा महज दस साल का केतन इनके गुण अभी से जानता है इन उपकरणों की मदद से उसने ऐसा डोर सिक्योरिटी अलार्म बनाया है, जो चोर पकड़ सकता है रोचक बात यह है कि आमतौर पर इस उम्र में बच्चे प्लास्टिक के खिलौने, बैट-बॉल या टीवी गेम्स खेलने का शौक रखते हैं केतन अपनी पॉकिट मनी खिलौनों की जगह पाना-पेंचकस, सोल्डिंग आयरन और अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों पर खर्च कर देता है।


पढ़े:- इस वैलेंटाइन डे में इस तरह से करे प्रपोज


जब उसके पापा रघुनंदन रात को घर पहुंचे, तो दरवाजा खुलते ही अलार्म बजने लगा पहले उन्होंने ध्यान न दिया पर अगले दिन फिर दरवाजा खुलते ही अलार्म बजने लगा, तो उन्हें झल्लाहट हुई और तब केतन की क्लास लगाई केतन की छोटी बहन वर्षा से पता चला तो पहले जमकर खबर ली गई जब डोर सिक्योरिटी अलार्म बनाकर दरवाजे में फिट करने की बात समझ में आई, तो इतनी सी उम्र में बेटे का ऐसा हुनर जानने के बाद भी वे भी भौंचक रह गए


पढ़े:- ये चीज खाने से आपके अन्दर आ जाएगी पहेलवान जैसी ताकत


घर के दरवाजे पर लगा उपकरण एक्टिव करना होता है इस बीच कोई अंजान व्यक्ति दरवाजे पर ताला देखकर भी अनाधिकृत रूप से घुसने का प्रयास करेगा  तो अलार्म बज उठेगा दोनों ओर लगे उपकरण के दोनों हिस्से में दरवाजा खुलते ही एक ओर से लेजर लाइट दूसरी ओर लगे सेंसर से कनेक्ट हो जाएगा और सर्किट पूरा होते ही अलार्म बज उठेगा इतना ही नहीं, अनाधिकृत प्रवेश पर अलार्म बजते ही उसके मोबाइल पर एक एसएमएस अलर्ट भी आ जाएगा, जो अनाधिकृत प्रवेश की सूचना देगा। इस तरह वक्त रहते चोरी जैसी घटना को रोकने की कवायद शुरू की जा सकेगी।


पढ़े:- इस डेली रूटीन से आप हमेशा रहेंगे एकदम फिट


डोर सिक्योरिटी अलार्म बनाने की तरकीब भी उसने यू-ट्यूब की मदद से ही सीखी और उसके बाद उसे तैयार करने के उपकरण खरीदे। बीसी-547 ट्रांजिस्टर, रजिस्टेंस, लाइट, साधारण लेजर लाइट, सेंसर, स्केच पेन की कैप, 9 वोल्ट की बैटरी, कनेक्टर, मिरर व डबल साइड टैप समेत उपकरणों पर उसने कुल 150 से 200 रुपए और दो दिन का वक्त खर्च किए और अब ये लड़का पानी से चलने वाली स्कूटी बनाने की कोशिस कर रहा है।


 


- शेख मो अब्दुल्ला



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के