aapkikhabar aapkikhabar

चीनी या नमक और चावल ज्यादा खाने से जाने क्यों है नुकसानदायक



aapkikhabar
+3

 


 चीनी का अधिक मात्रा में सेवन करने से मोटापे और डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है|



डेस्क- कई खाद्य पदार्थ सेहत को लाभ नहीं, बल्कि नुकसान पहुंचाते हैं। इनमें चीनी, नमक, मैदा जैसी चीजें शामिल हैं, जिन्हें विशेषज्ञ व्हाइट पॉइजन की संज्ञा देते हैं। ये किस तरह सेहत के लिए नुकसानदेह साबित होते हैं|


चीनी, नमक, मैदा, सफेद चावल और गाय का पॉस्चराइज्ड दूध ऐसे खाद्य पदार्थ हैं, जिनमें पोषकता बिल्कुल नहीं होती है। इन्हें खाने से काफी नुकसान होता है।थोड़ी मात्रा में नमक का सेवन हमारे लिए जरूरी है, लेकिन अधिक मात्रा में इसका सेवन सेहत को कई तरह से नुकसान पहुंचाता है। इन पांचों का रंग सफेद होता है। इसलिए इन्हें व्हाइट पॉइजन यानी सफेद जहर भी कहते हैं।


चीनी


चीनी को ‘फूडलेस फूड’ कहा जाता है। कैलरी के नाम पर यह खाली तो होती ही है, कोई विटामिन या मिनरल्स भी नहीं होते, जो हमारे लिए आवश्यक हैं। चीनी का अधिक मात्रा में सेवन करने से मोटापे और डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। इसकी वजह से आगे चलकर हार्ट अटैक, कैंसर, ब्रेन स्ट्रोक जैसी गंभीर समस्याएं हो सकती हैं।


 हानिकारक सफेद चीनी



सफेद चीनी को रिफाइंड शुगर भी कहा जाता है। इसे रिफाइन करने के लिए सल्फर डाई ऑक्साइड, फास्फोरिक एसिड, कैल्शियम हाइड्रॉक्साइड और एक्टिवेटेड कार्बन का उपयोग किया जाता है। रिफाइनिंग के बाद इसमें मौजूद विटामिन्स, मिनरल्स, प्रोटीन, एंजाइम्स और दूसरे लाभदायक पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं, केवल सूक्रोज ही बचता है और सूक्रोज की अधिक मात्रा शरीर के लिए घातक होती है।



डायबिटीज से पीड़ित लोगों को प्राकृतिक रूप से मीठी चीजों जैसे फलों आदि का सेवन करना चाहिए। स्वस्थ लोगों को भी चीनी के बजाय गुड़, शहद, खजूर, फलों, फलों का जूस आदि का सेवन करना चाहिए। शहद चीनी का सबसे बेहतर प्राकृतिक विकल्प है। इसमें केवल फ्रुक्टोज या ग्लुकोज नहीं होता है, बल्कि कई मिनरल्स और विटामिन्स भी होते हैं।





 

पिछली स्लाइड     अगली स्लाइड


सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के