UP Budget 2023-24 Explained: योगी सरकार के ताजा बजट पर स्पेशल रिपोर्ट

UP Budget 2023-24 Explained: योगी सरकार के ताजा बजट पर स्पेशल रिपोर्ट
साल 2017 में जब योगी आदित्यनाथ को उत्तर प्रदेश की बागडोर सौंपी गई थी तो लगा था कि अब जाकर प्रदेश में कुछ बड़ा बदलाव आने वाला है... उनके मुख्यमंत्री बनने से जो सबसे ज्यादा खुश थे वो थे साधु-संत और धार्मिक प्रवृत्ति के लोग... क्योंकि योगी आदित्यनाथ भी इसी पृष्ठभूमि से आते हैं... वहीं, योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री के रूप में देखना एक तबके को रास नहीं आ रहा था... उनको डर था कि अब प्रदेश की आर्थिक रफ्तार रुक जाएगी और सिर्फ धर्म-कर्म के ही काम होंगे... लेकिन योगी आदित्यनाथ की अगुवाई वाली यूपी सरकार ने धर्म-कर्म के काम को तो बढ़ावा दिया ही, साथ ही राज्य की अर्थव्यवस्था को भी मजबूत करने पर अपना पूरा बल दिया... और इसका जीता जागता सबूत है अभी हाल ही यूपी विधानसभा में पेश हुआ योगी सरकार का ऐतिहासिक बजट... 

 जाने क्यों ऐतिहासिक है योगी का नया बजट.

ऐतिहासिक हम इसे इसलिए कह रहे हैं क्योंकि यह उत्तर प्रदेश के इतिहास का अब तक का सबसे बड़ा बजट बताया जा रहा है मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने 2024-2025 के लिए अभी हाल ही में बजट पेश किया... आपको जानकर हैरानी भी होगी और गर्व भी होगा क्योंकि बजट के अगर आकार की बात करें तो यह 7 लाख 36 हजार 434 दशमलव 71 करोड़ रुपये है... इसके अलावा इस बजट में 24 हजार 863 करोड़ 57 लाख रुपये की नई योजनाएं भी ऐड की गई हैं... योगी सरकार ने अपने बजट में महिलाओं, युवाओं, किसानों पर सबसे ज्यादा फोकस किया है... एक और खास बात इस बजट की यह है कि इसमें Employment यानी रोज़गार को बढ़ाने का भी प्रावधान किया गया है |


इस बजट से जुड़े कुछ और खास पहलुओं पर बात करें लेकिन चलिए उससे पहले यह जान लीजिए कि योगी आदित्यनाथ के सत्ता संभालने के बाद किस साल में कितना बजट पेश किया गया था |

योगी सरकार के पहले कार्यकाल के पहले वित्त वर्ष 2017-2018 में 3,84,656.71 करोड़ (4 लाख 84 हजार 656 दशमलव 71 करोड़) का कुल बजट पेश किया गया था

दूसरे वित्त वर्ष 2018-2019 में 4,28,384.52 करोड़ (4 लाख 28 हजार 384 दशमलव 52 करोड़)

तीसरे वित्त वर्ष 2019-2020 में 4,79,701.10 करोड़ (4 लाख 79 हजार 701 दशमलव 10 करोड़)

चौथे वित्त वर्ष 2020-2021 में 5,12,860.72 करोड़ (5 लाख 12 हजार 860 दशमलव 72 करोड़)

प्रदोष व्रत क्या है प्रदोष व्रत करने से क्या लाभ होता है

वहीं अपने पांचवें और अपने पहले कार्यकाल के आखरी वित्त वर्ष 2021-2022 में 5,50,278.78 करोड़ (5 लाख, 50 हजार, 278 दशमलव 78 करोड़) का बजट पेश किया गया

योगी सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले वित्त वर्ष 2022-2023 में 6,15,518.97 करोड़ (6 लाख 15 हजार 518 दशमलव 97 करोड़) का कुल बजट पेश किया गया.
दूसरे वित्त वर्ष 2023-2024 में 6,90,242.43 करोड़ (6 लाख 90 हजार 242 दशमलव 43 करोड़)

तीसरे वित्त वर्ष 2024-2025 में 7,36,434.71 करोड़ (7 लाख 36 हजार 434 दशमलव 71 करोड़) का ताजा बजट पेश किया गया है.

आपने गौर किया होगा कि हर वित्त वर्ष में योगी सरकार ने एक लाख करोड़ से ज्यादा का बजट तो बढ़ाया ही है.यह भी अपने आप में एक बड़ा रिकॉर्ड है.योगी सरकार ने अपने ताजा बजट में किन-किन क्षेत्रों पर मुख्य रूप से फोकस किया है.

1. इस बार के बजट में महिलाओं, किसानों और युवाओं पर तो फोकस किया गया ही है, इसके साथ ही इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट की और भी ध्यान दिया गया है.

2. इस बजट में सरकार ने छात्र-छात्राओं को टैबलेट/स्मार्ट फोन बांटने के लिए 4 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया है.

3. योगी सरकार ने महिला पेंशन योजना के तहत पात्र लाभार्थियों को देय धनराशि 500 रुपये प्रति माह से बढ़ाकर 1,000 रुपये प्रति माह कर दी है.

SA20 2024 : साउथ अफ्रीका टी20 लीग का आज Eliminator मैच किस टीम के बीच खेला जायेगा कब और कहा खेला जायेगा

4. वहीं महिला किसान सशक्तिकरण परियोजना के तहत वित्त वर्ष 2024-2025 में 200 उत्पादक समूहों का गठन कर तकनीकी सहायता प्रदान करने का राज्य सरकार ने लक्ष्य रखा है.

5. वित्त वर्ष 2024-25 के वार्षिक बजट में राज्य में योगी सरकार ने कृषि क्षेत्र के लिए 5.1 प्रतिशत वृद्धि दर का लक्ष्य रखा है.

6. कृषि क्षेत्र की प्रगति के लिए तीन योजनाओं की घोषणा की गई है... ‘राज्य कृषि विकास योजना' के लिए 200 करोड़ रुपये का प्रावधान है... विश्व बैंक समर्थित ‘यूपी एग्रीज योजना' के लिए 200 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं... वहीं तीसरी योजना प्रदेश के विकास खंडो और ग्राम पंचायतों में स्वचालित मौसम केंद्र और स्वचालित वर्षा मापी यंत्र स्थापित करने से जुड़ी है जिसके लिए योगी सरकार 60 करोड़ खर्च करेगी.

7. योगी सरकार की तरफ से 50 करोड़ रुपये के प्रावधान के साथ मुख्यमंत्री खेत सुरक्षा योजना भी शुरू की जा रही है.

8. 'पी.एम. कुसुम योजना' के के लिए 449.45 करोड़ रुपये की राशि प्रस्तावित है जो वर्तमान वित्त वर्ष 2023-24 की तुलना में दो गुना ज्यादा है..इस योजना के तहत किसानों को सोलर पंप लगाने के लिए सरकार सब्सिडी देती है

Reporter - Shubham valmiki

Share this story