What your birthmark says about your past? ये निशान से बताते हैं आपका पुनर्जन्म हुआ है कर्म-चिह्न र  जन्म-चिह्न क्या जानिए 

What your birthmark says about your past? ये निशान से बताते हैं आपका पुनर्जन्म हुआ है कर्म-चिह्न र  जन्म-चिह्न क्या जानिए 
आज हम आपको बताने जा रहे है अगर आपने किसी व्यकित को जन्म के समय निशान रहते है वे पुनर्जन्म के निशान  होते है यही लोगो का कहना है  जो किसी व्यक्ति के शरीर पर उसके पिछले जन्म के अनुभवों या चोटों के कारण होते हैं। इन निशानों को कर्म-चिह्न या जन्म-चिह्न भी कहा जाता है।
 

गरुड़ पुराण में पुनर्जन्म के निशानों के बारे कुछ निशान शामिल 

What is the concept of birth injury? जन्म के समय घाव या चोट

1.शरीर पर अजीब या असामान्य निशान

2.शरीर पर जन्म के समय से मौजूद बाल

3.शरीर पर जन्म के समय से मौजूद दांत

4.शरीर पर जन्म के समय से मौजूद विशिष्ट विशेषताएं, जैसे कि जन्मजात अंधापन या बहरापन

How did Dwarka sink in water? द्वारका नगरी समुद्र में कैसे डूब गई जानिए

What is the belief in reincarnation called? पुनर्जन्म के निशानों का विश्वास

पुनर्जन्म के निशानों का विश्वास दुनिया भर में कई संस्कृतियों में पाया जाता है। भारत में, इन निशानों को अक्सर एक व्यक्ति के पिछले जन्म के बारे में जानकारी के रूप में देखा जाता है। कुछ लोगों का मानना ​​है कि पुनर्जन्म के निशान किसी व्यक्ति के पिछले जन्म के कर्मों का परिणाम हैं। और वही  वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि पुनर्जन्म के निशान आमतौर पर जन्म के समय मौजूद किसी भी शारीरिक स्थिति या विकृति के कारण होते हैं। जैसे की  जन्म के समय घाव या चोट पुनर्जन्म के निशान के रूप में देखा जाता है  इसी तरह, शरीर पर अजीब या असामान्य निशान जन्मजात विकारों या अन्य चिकित्सा स्थितियों के कारण हो सकते हैं |

What should be done to make the mind happy? अपने मन को खुश करने के लिए क्या करना चाहिए

Do birthmarks mean anything? कर्म-चिह्न 

कर्म-चिह्न या जन्म-चिह्न एक ऐसा चिह्न होता है जो किसी व्यक्ति के जन्म के समय उसके शरीर पर मौजूद होता है। यह चिह्न जन्म से ही मौजूद होता है और जीवन भर रहता है। कर्म-चिह्न को किसी भी प्रकार से हटाया या बदला नहीं जा सकता है।

कर्म-चिह्न को दो प्रकारों में बांटा गया है 

शरीर के बाहरी भाग पर मौजूद कर्म-चिह्न
ये कर्म-चिह्न शरीर के बाहरी भाग पर, जैसे कि त्वचा, बाल, नाखून, आदि पर मौजूद होते हैं। इन कर्म-चिह्नों को देखकर किसी व्यक्ति के चरित्र, भविष्य, आदि के बारे में जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

शरीर के अंदरूनी भाग पर मौजूद कर्म-चिह्न
ये कर्म-चिह्न शरीर के अंदरूनी भाग पर, जैसे कि हृदय, मस्तिष्क, आदि पर मौजूद होते हैं। इन कर्म-चिह्नों को देखकर किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य, मानसिक स्थिति, आदि के बारे में जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

जन्म चिन्ह क्या होता है 

जन्म चिन्ह त्वचा की असामान्यताएं होती हैं जो बच्चे के जन्म से मौजूद होती हैं। जन्म चिन्ह शरीर के किसी भी अंग पर हो सकते हैं, लेकिन आमतौर पर चेहरे, गर्दन, छाती, या पीठ पर पाए जाते हैं। जन्म चिन्ह के कई प्रकार होते हैं |

तिल: तिल त्वचा के रंग के छोटे, गोल धब्बे होते हैं। वे आमतौर पर जन्म से मौजूद होते हैं लेकिन बाद में जीवन में भी विकसित हो सकते हैं।

लाल निशान: लाल निशान त्वचा के रंग में हल्के या गहरे लाल रंग के धब्बे होते हैं। वे आमतौर पर जन्म से मौजूद होते हैं, लेकिन बाद में जीवन में भी विकसित हो सकते हैं।

दाग: दाग त्वचा के रंग में हल्के या गहरे भूरे रंग के धब्बे होते हैं। वे आमतौर पर जन्म से मौजूद होते हैं लेकिन बाद में जीवन में भी विकसित हो सकते हैं।

चेहरे पर छेद-जैसे निशान: चेहरे पर छेद-जैसे निशान त्वचा में छोटे और  छेद-जैसे धब्बे होते हैं। वे आमतौर पर जन्म से मौजूद होते हैं, लेकिन बाद में जीवन में भी विकसित हो सकते है 

 

Share this story